अब किसी भी आपदा के समय मदद के लिए 1077 टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर डायल करें

आपदा की दृष्टि से अति संवेदनशील अल्मोड़ा जिले में मानसून के मौसम में किसी भी प्रकार की दैवीय आपदा से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग और प्रशासन ने कमर कस ली है। रेस्क्यू टीम को मौके पर बुलाने के लिए टोल फ्री नंबर 1077 जारी किया गया है।

बरसात के मौसम में जिले में अक्सर भूस्खलन होने से लोगों की जान को खतरा रहता है। जिले के 14 गांवों के 242 परिवार विस्थापन की जद में हैं। इसके अलावा हल्द्वानी, रानीखेत, बागेश्वर, पिथौरागढ़, चंपावत को जाने वाले मार्गों में जगह-जगह भूस्खलन होने से रास्ते अक्सर बंद हो जाते हैं। इसके चलते लोगों को अपने गंतव्यों तक पहुंचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

इस बार जिला प्रशासन ने आपदा प्रबंधन को पहले ही चाक चौबंद कर दिया है। सभी तहसील मुख्यालयों में आपदा कंट्रोल रूम स्थापित कर दिए हैं। सभी कंट्रोल रूम 24 घंटे खुले रहेंगे। जिलेभर की सड़कों में 54 जेसीबी तैनात रहेंगी।

सभी तहसीलों की 83 दुकानों में 1 क्विंटल आटा, 2 क्विंटल चावल, 25 किलो चीनी, 25 लीटर कैरोसीन और आवश्यकता अनुसार दाल, तेल, मोमबत्ती, नमक, आलू, बिस्कुट आदि सामान रख दिया गया है। सभी स्वास्थ्य केंद्रों में अतिरिक्त दवाइयां भा रख दी गई हैं।