राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सोमवार सुबह बाबा केदारनाथ के दर्शन करने के लिए निकले, लेकिन खराब मौसम ने उनका रास्ता रोक दिया। खराब मौसम के चलते राष्ट्रपति का केदारनाथ दौरा रद्द हो गया। महामहिम बिना भगवान केदार के दर्शन किए एमआई-17 से अस्थायी राजधानी देहरादून लौट गए।

केदारनाथ में खराब मौसम के चलते राष्ट्रपति को ले जा रहे एमआई-17 की लैंडिंग धाम में नहीं हो पाई। ‌‌गौचर में राष्ट्रपति के हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है।

महामहिम बुधवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे देहरादून के जौलीग्रांट हवाई अड्डा पहुंचे, जहां मुख्यमंत्री हरीश रावत और राज्यपाल केके पॉल ने उनका स्वागत किया। नौ बजे MI-17 से राष्ट्रपति केदारघाटी के लिए रवाना हुए। उनके साथ राज्यपाल केके पॉल और मुख्यमंत्री हरीश रावत भी मौजूद रहे।

kedarnath

सुबह 9.40 पर एमआई-17 केदारनाथ पहुंचा, लेकिन मौसम खराब होने के चलते 9.55 मिनट पर गौचर में लैंडिंग की गई। मौसम ठीत नहीं हुआ और राष्ट्रपति को देहरादून लौटना पड़ा।

इससे पहले राष्ट्रपति के 22 जून को केदारनाथ धाम के संभावित दौरे को देखते हुए आला अधिकारी स्वयं धाम में डेरा डालकर तैयारियों को अंतिम रूप दिया। मंगलवार को कमिश्नर सीएस नपलच्याल, आईजी संजय गुज्याल, जिलाधिकारी डा. राघव लंगर और एसपी पीएन मीणा, आईजी इंटेलीजेंस केदारनाथ पहुंचे।

उन्होंने वहां हो रही तैयारियों का स्थलीय निरीक्षण किया और दिशा-निर्देश दिए। धाम में मंदाकिनी, सरस्वती और स्वर्गद्वारी नदी के संगम पर वीआईपी स्नानघाट का निर्माण पूरा कर उसे टाइल्स से सजा दिया गया है। अधिकारियों की मौजूदगी में दोपहर बाद केदारनाथ में पुलिस और सुरक्षा बलों और अन्य विभागों ने तैयारियों की रिहर्सल की गई।