नैनीताल स्थित उत्तराखंड हाईकोर्ट में सोमवार को हरीश रावत स्टिंग मामले की सुनवाई हुई। कोर्ट ने कहा है कि फिलहाल सीबीआई जांच जारी रहेगी, लेकिन सीबीआई कोई भी बड़ा कदम उठाने से पहले कोर्ट को सूचित करेगी। अब इस मामले में अगली सुनवाई 19 जुलाई को होगी।

इसके आलावा कोर्ट ने केंद्र सरकार को इस मामले में दो हफ्ते में जवाब देने को कहा है, जिस पर याचिकाकर्ता एक हफ्ते में प्रतिशपथपत्र कोर्ट में दाखिल करेंगे। हाईकोर्ट में सोमवार की सुनवाई के दौरान मुख्यमंत्री हरीश रावत की पैरवी सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील डॉ. राजीव धवन ने की है।

कोर्ट ने सीबीआई के वकील से पूछा कि एक महीने बाद जांच कहां तक पहुंची है, इस पर सीबीआई के वकील ने कहा कि इस पर वे अलग से स्टिंग की सीएफएसएल की जांच रिपोर्ट के लिए रुके हैं। स्टिंग मामले में दिल्ली पुलिस स्टेब्लिशमेंट एक्ट के तहत सीबीआई जांच चल रही है। इस मामले में अब अगली सुनवाई 19 जुलाई को होगी।

केंद्र सरकार के असिस्टेंट सॉलिसिटर जर्नल राकेश थपलियाल ने कोर्ट से कहा कि याचिकाकर्ता को शुरुआती जांच रुकवाने के लिए याचिका करने का कोई अधिकार नहीं है। जिस पर कोर्ट ने कहा कि सीबीआई याचिकाकर्ता को जब पूछताछ के लिए दिल्ली बुलाना चाहती है, बुला लेती है और याचिकाकर्ता को क्या इसके खिलाफ रोक लगाने की मांग करने का भी अधिकार नहीं है।