उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर में देवभूमि फ्यूजन फूड प्लांट के सुरक्षा गार्ड की अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी। गार्ड का शव फ्लांट से छह किलोमीटर दूर झाड़ियों में बरामद हुआ। हत्यारों ने शव को गद्दे में लपेटा हुआ था। घटनास्थल के पास ही फैक्ट्री की वैन भी लावारिस हालत में बरामद हुई है। माना जा रहा है कि इसी वैन में हत्यारे शव को डालकर घटनास्थल पर फेंक गए होंगे।

एसएसपी अनंत शंकर ताकवाले, एएसपी कमलेश उपाध्याय, सीओ जीसी टम्टा, एसओ कुंडा नासिर हुसैन ने घटनास्थल का मुआयना किया। पुलिस आधा दर्जन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो कुछ अहम सुराग हाथ लगे।

शनिवार सुबह ग्राम किलावली के ग्रामीणों ने गांव से कुछ दूर नवलपुर मार्ग पर सड़क किनारे झाड़ियों में गद्दे, चादर में लपेटकर बंधा हुआ शव देखा और तत्काल पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने चादर खोली तो खून से सना शव उसमें लपेटा था। हत्यारों ने मृतक का सिर, मुंह को बुरी तरह से कुचला था और आंख बाहर निकली थी।

मृतक के जेब से रामपाल लिखा आईकार्ड और शराब का पाउच बरामद हुआ। घटनास्थल के पास तीन चप्पलें और एक टॉर्च पड़ी थी। भरतपुर के प्रधान जीत सिंह ने मृतक की पहचान ग्राम भरतपुर निवासी रामपाल सिंह (46) पुत्र मनसुख सिंह के रूप में करते हुए बताया कि मृतक देवभूमि फ्यूजन फूड प्लांट का सुरक्षा गार्ड था। इसी बीच मृतका का बेटा सुनील भी पहुंच गया। पुलिस को घटनास्थल से एक किलोमीटर पहले ग्राम किलावली में सड़क किनारे फैक्ट्री की कार यूके 18सी-4418 लावारिस हालत में मिली, उसका एक टायर पंक्चर था।

गार्ड रूम में प्लास्टिक की कुर्सी टूटी मिलने के साथ ही अंदर खड़ी साइकिल पर खून के छींटे मिले। गार्ड रूम का फर्श तो साफ था, लेकिन बाहर नाली में जमे खून के थक्के इसी रूम में घटना को अंजाम दिए जाने की ओर इशारा कर रहे थे। अंदेशा है कि बदमाशों ने गार्ड रूम में ही रामपाल की हत्या की और वहीं की गाड़ी में शव रखकर फेंका।

गाड़ी का इस्तेमाल होने से फैक्ट्री में ही किसी का हाथ घटना में होने का शक गहरा रहा है। पुलिस ने छह से अधिक लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया, इनमें से दो वे लोग हैं, जिनसे शुक्रवार शाम मृतक का झगड़ा हुआ था। रात में ड्यूटी के दौरान रामपाल अकेला ही था। एएसपी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि संदिग्धों से पूछताछ में कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं। बहुत जल्द ही खुलासा कर दिया जाएगा।