उधमसिंह नगर जिले के जसपुर में किन्नर के साथ ढोलक बजाने वाले ग्रामीण का करीब छह कार सवारों ने पुराना विवाद सुलझाने का भरोसा देकर अपहरण कर लिया और बाद में उसे अधमरा कर घर के बाहर फेंककर फरार हो गए।

जब तक परिजनों ने डॉक्टर को बुलाया तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। मृतक की पत्नी ने सात आरोपियों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। आक्रोशित लोगों की सीओ से तीखी नोकझोंक भी हुई। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त कार को बरामद करने के साथ ही छह संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

पतरामपुर निवासी मगन सिंह (45) जसपुर निवासी चंदा किन्नर के साथ ढोलक बजाता था। बधाई में मिलने वाले रुपयों को वे बांट लेते थे। एक साल पहले चंदा के पास मगन ने काम छोड़ दिया था। वह ग्राम सीपका निवासी प्रीति किन्नर के साथ ढोलक बजाकर बधाई मांगने का कार्य करने लगा। हिसाब में गड़बड़ी के बाद मगन ने छह महीने पहले प्रीति किन्नर के साथ काम छोड़ दिया और फिर से चंदा किन्नर के साथ काम करने लगा।

पुराने हिसाब को लेकर मगन और प्रीति किन्नर के बीच विवाद चल रहा था। मगन की पत्नी राजेन्द्र देवी ने बताया कि शुक्रवार शाम सात बजे वसीम की गाड़ी में प्रीति किन्नर, बूटा सिंह, कालू प्रधान, हैप्पी सिंह, अवतार सिंह, सन्नी सिंह आए। उन्होंने दोनों बेटों ओमकार, उदयवीर के सामने पति मगन से कहा कि तुम साथ चलो, प्रीति के साथ सारा विवाद खत्म करा देंगे।

आरोपी मगन को स्कार्पियो में बैठा कर ले गए। आधी रात को करीब दो बजे ये लोग उसके दरवाजे के सामने मगन को अधमरी हालत में फेंककर चले गए। उस समय उसकी सांसें चल रही थीं और शरीर पर गुम चोटों के निशान थे।

उन्होंने जब तक गांव के डॉक्टर को बुलाया तब तक मगन ने दम तोड़ दिया। सूचना मिलने पर सीओ जीसी टम्टा, कोतवाल आरके चमोली घटनास्थल पर पहुंचे तो उन्हें परिजनों और ग्रामीणों का आक्रोश झेलना पड़ा। उन्होंने पतरामपुर पुलिस चौकी पर आरोपियों से मिलीभगत का आरोप मढ़ा और आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की।

सूचना मिलने पर एसएसपी अनंत शंकर ताकवाले और एएसपी कमलेश उपाध्याय ने घटनास्थल का मुआयना किया। कोतवाल आरके चमोली ने बताया कि घटना में प्रयुक्त स्कार्पियो कार को बरामद किया गया है। आधा दर्जन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमों का गठन कर रवाना कर दिया गया है।