पहले बड़े-बड़े घरों का चलन था, जिसमें मल्टीपल फर्नीचर यानी एक ऐसा फर्नीचर जिसका इस्तेमाल बहुत सारे कामों के लिए हो, की जरूरत नहीं थी। बड़े से घर में सब कुछ समा जाता था, लेकिन बदलते परिवेष में अब घर छोटे हो गए हैं। जहां लोग टू बेडरूम और थ्री बेडरूम के फ्लैट में रह रहे हैं, वहां पर मल्टीपल फर्नीचर लोगों के लिए अनिवार्य हो गए हैं। लेकिन घर में मल्टी पर्पज फर्नीचर रखते समय मन में यह ख्याल भी आता है कि क्या ऐसे फनीचरों को घर में रखना वास्तु के मुताबिक सही है।

मल्टी पर्पज फर्नीचर की प्लेंसिंग करते समय अगर आप फेंग्शुई के वुड तत्व का ध्यान रखेंगे, तो यह इंटीरियर के साथ-साथ कई रेमेडी भी कर देगा, क्योंकि आमतौर पर फर्नीचर का निर्माण करते समय लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है, जो कि फेंग्शुई के वुड तत्व को बैलेंस करता है। अगर आपने घर की सजावट में वुड तत्व का ध्यान रखा है, तो फिर आपके घर में सुख-समृद्धि के साथ आपको और आपके परिवार को बेहतर स्वास्थ्य और नेम-फेम की सौगात भी मिलेगी।

जरूरत है मल्टीपर्पज फर्नीचर
मल्टी फर्नीचर के बारे में अगर यह कहा जाए कि एक पंथ बहुत सारे काज तो कतई गलत ना होगा। आजकल बाजार में बहुत सारे ऐसे फर्नीचर मिल रहे हैं, जिनसे आप एक ही चीज से बहुत सारे कार्य कर सकते हैं। जैसे कि सोफा कम बेड, जिसका इस्तेमाल आप दिन में सोफे की तरह कर सकते हैं और रात में इसे बेड के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऐसे ही बहुत सारे क्यूब्स वाले स्टूल हैं, जिन्हें आप जरूरत के मुताबिक छोटा या बड़ा कर सकते हैं, इसे बुक रैक बना सकते हैं, तो सेंटर टेबल के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसी तरह से आजकल बाजार में ऐसे प्रेस स्टैंड मिल रहे हैं, जिन्हें आप जरूरत के समय प्रेस करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं नहीं तो इसका इस्तेमाल मिरर के तौर पर कर सकते हैं।

घर के मुखिया के लिए उचित नहीं है मल्टीपर्पज फर्नीचर
वास्तु शास्त्र में मल्टीपर्पज फर्नीचर को किस जगह पर रखना है और वह किस मटेरियल से बना है इस पर जोर दिया गया है। आप सोफा कम बेड को लिविंग रूम में रख सकते हैं, लेकिन इसे घर के मुखिया का बेड नहीं बना सकते हैं। जो घर का हेड है उसके बेडरूम में भले की सिंगल बेड हो लेकिन वो मल्टी पर्पस फर्नीचर यानी सोफा कम बेड नहीं होना चाहिए।

वास्तु के परिप्रेक्ष्य में मल्टी पर्पज फर्नीचर
Sofa-Cum-Bed2

बेड हमेशा लकड़ी का ही बना होना चाहिए, उसके लिए किसी अन्य मटेरियल का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। आजकल बाजार में रॉ आयरन और स्टील आदि से बने मल्टी पर्पज फर्नीचर का चलन है, जिसका इस्तेमाल आप अपनी जरूरत के मुताबिक अलग-अलग कामों के लिए कर सकते हैं। चेयर डाइनिंग टेबल और दूसरी चीजों के लिए आप किसी भी मटेरियल का चयन कर सकते हैं, लेकिन बेड के लिए हमेशा लकड़ी का चयन ही करना चाहिए।

मल्टीपर्पज फर्नीचर को इंटीरियर की शोभा बढ़ाने के साथ-साथ सकारात्मक प्रभाव वाला भी बनाया जा सकता है। इसके लिए उसके रंग और आकार का चयन करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप उसे किस दिशा में रखने जा रहे है। अगर आप अपने बेडरूम के लिए मल्टीपर्पज क्यूबिकल स्टूल खरीद रहे हैं, जिसका इस्तेमाल आप स्टोरेज के लिए भी कर सकें, तो अगर आपको उसे पूर्व दिशा में रखना है, तो फिर आप वर्गाकार या आयताकार शेप का चयन करें। फेंगशुई व 5 तत्वों में सुधार के लिए उस पर अंडाकार शेप के कवर का प्रयोग करे जो कि मरून, नीला, हरा या भूरे रंग का हो सकता है।

बॉक्स वाला बेड प्रयोग करते समय थोड़ी सावधानी बरतें
अगर आपने अपने लिए बॉक्स वाले बेड का चयन यह सोचकर किया है कि आप उसमें जो सामान इस्तेमाल नहीं हो रहा है उसे रख लेंगे, तो उसमें सामान रखते समय यह ध्यान रखें कि आप उस सामान का नियमित तौर पर इस्तेमाल करें। अपने बेड के बॉक्स को स्टोर रूम की तरह इस्तेमाल न करें उसमें जूते-चप्पल, बर्तन व किताबें न रखें। यह पति-पत्नि के बीच होने वाले झगड़ों का प्रमुख कारण बनता है साथ ही शारीरिक जकड़न भी देता है।

अपने बेड के लिए सिंगल गद्दे का चयन करें क्येांकि अगर आप डबल गद्दा इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इससे पति-पत्नी के बीच छोटी-छोटी बातों पर तकरार होती है। यदि संभव न हो तो उसे कुछ हद तक सिल दे ताकि वह एक हो जाऐ।

घर में आकर्षित करें सकारात्मक ऊर्जा
फर्नीचर को बनाने में लकड़ी का इस्तेमाल होता है अगर आप अपने घर में मल्टीपर्पज फर्नीचर को रखते समय फेंग्शुई के वुड तत्व का ध्यान रखेंगे, तो यह आपके लिए लाभदायक होगा। फेंग्शुई का वुड तत्व पूर्व दिशा को पोषण प्रदान करने के साथ-साथ उसे मजबूती भी देता है। दक्षिण पूर्व अैर दक्षिण जोन में अपने घर और ऑफिस में फेंग्शुई की रेमेडी बगुआ लगाकर आप अपने जीवन में बेहतर स्वास्थ्य, नेम-फेम और सुख समृद्धि को आकर्षित कर सकते हैं।

यह लेख मशहूर ज्योतिष, वास्तु और फेंग्शुई विशेषज्ञ नरेश सिंगल से बातचीत के आधार पर लिखा गया है। वास्तु से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए नरेश सिंगल से संपर्क करें…

+91-9810290286
9810290286@vaastunaresh.com, mail@vaastunaresh.com