कैराना मामला : सियासी ड्रामे के बाद रुकी बीजेपी की निर्भय व सपा की सद्भावाना यात्रा

उत्तर प्रदेश में मेरठ जिले के कैराना से हिंदुओं के कथित पलायन के मुद्दे को लेकर शुक्रवार को सरधना में दिनभर सियासी ड्रामा चला। बीजेपी विधायक संगीत सोम की ‘निर्भय यात्रा’ और इसके जवाब में सपा नेता अतुल प्रधान की ‘सद्भावना यात्रा’ पर प्रशासन ने रोक लगा दी। संगीत सोम ने दावा किया है कि यह यात्रा 15 दिन के लिए रोकी गई है। अगर इस दौरान पलायन करने वाले वापस कैराना नहीं लाए गए तो 16वें दिन फिर बीजेपी कार्यकर्ता सड़क पर उतरेंगे।

इससे पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार संगीत सोम ने शुक्रवार को सरधना स्थित अपने आवास से करीब 11.30 बजे कैराना के लिए निर्भय यात्रा शुरू की। सवेरे से ही उनके घर के सामने बड़ी संख्या में कार्यकर्ता जुट गए थे।

प्रशासन ने भी टकराव की आशंका को देखते हुए कई थानों की पुलिस लगा रखी थी। यात्रा को घर पर तो नहीं रोका गया, लेकिन करीब दो किलोमीटर की पदयात्रा के बाद जैसे ही संगीत सोम यात्रा के साथ दौराला नहर पर पहुंचे, वहां बड़ी संख्या में मौजूद पुलिसकर्मियों ने यात्रा को रोक दिया।

संगीत सोम ने भी बिना किसी प्रतिरोध के यात्रा स्थगित करने की घोषणा कर दी। साथ ही ऐलान किया कि यात्रा 15 दिन के लिए स्थगित की जा रही है। अगर इस दौरान पलायन करने वालों को नहीं लौटाया गया तो कार्यकर्ता फिर सड़क पर उतर कर विरोध करेंगे।

बताया जा रहा है कि बीजेपी हाईकमान के निर्देश पर प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने खुद संगीत सोम को फोन करके निर्देश दिए थे कि जहां भी यात्रा को रोका जाए, वहीं उसे स्थगित कर दी जाए।

उधर, सपा नेता अतुल प्रधान भी करीब पौने 12 बजे पूरे लाव-लश्कर के साथ सरधना के सिटी प्वाइंट मैरेज हॉल से सभा के बाद हाथों में गुलाब का फूल लेकर सद्भावना यात्रा लेकर कैराना के लिए निकले। इस यात्रा को भी मेरठ रोड पर पुरानी चुंगी के पास मौजूद पुलिस बल ने रोक दिया। यात्रा में अतुल के साथ विधायक गुलाम मोहम्मद और सपा जिलाध्यक्ष जयवीर यादव मौजूद रहे।

बिना किसी विरोध के, अतुल ने यात्रा खत्म करने की घोषणा करते हुए कहा कि किसी को भी माहौल खराब नहीं करने दिया जाएगा। इससे पहले सवेरे से ही सरधना क्षेत्र छावनी बना रहा। कई थानों की पुलिस और पीएसी कस्बे में तैनात रही। बाहरी इलाकों से आने वाले लोगों को भी रोका जा रहा था। दोनों यात्राएं बिना किसी विवाद के स्थगित होने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली है।