CIA ने पश्चिमी देशों में आतंकी संगठन ISIS के और हमलों की चेतावनी दी

अमेरिका की खुफिया संस्था सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) ने पश्चिमी देशों में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के और हमलों की चेतावनी दी है। सीआईए के निदेशक जॉन ब्रेनन ने अमेरिकी राज्य फ्लोरिडा के एक समलैंगिक नाइट क्लब में पिछले दिनों गोलीबारी करने वाले का संबंध आईएस से सीधे तौर पर नहीं होने की पुष्टि की। साथ में उन्होंने चेताया कि आईएस पश्चिमी देशों में और हमलों को अंजाम देने की ताक में है, जिसके लिए वह हमलावरों को प्रशिक्षित भी कर रहा है।

ब्रेनन ने गुरुवार को खुफिया सूचना पर सीनेट की प्रवर समिति को बताया कि आईएस पश्चिमी देशों में घुसपैठ की कोशिश कर सकता है। उन्होंने कहा, ‘आईएस के पश्चिमी लड़ाकों की अच्छी खासी संख्या है, जो पश्चिम में हमलों को अंजाम दे सकते हैं।’

उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्यवश, आईएस के खिलाफ संघर्ष और वित्तीय क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करने के बाद भी हम इसकी आतंक फैलाने की क्षमता और वैश्विक पहुंच को कम नहीं कर सके हैं।’

ब्रेनन के अनुसार, हालांकि आईएस के हाथ से इराक और सीरिया में एक बड़ा हिस्सा निकल गया है, पर इसके पास अब भी 18,000 से 22,000 लड़ाके हैं और लीबिया में इसकी इकाई ‘संभवत: सबसे विकसित और खतरनाक’ है।

उन्होंने कांग्रेस को बताया कि आईएस के लीबिया में 5,000 से 8,000 लड़ाके हैं, जबकि नाइजीरिया में 7,000 और मिस्र, अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान में सैकड़ों लड़ाके हैं।

ऑरलैंडो गोलीबारी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हमलावर का संबंध सीधे तौर पर आईएस से नहीं था, फिर भी इस तरह के ‘एकल हमलावर’ खुफिया तंत्र के लिए बड़ी चुनौती हो सकते हैं, जो भले ही आतंकवादी गिरोहों से सीधे तौर पर नहीं जुड़े होते हैं, पर उनसे प्रेरित होते हैं।