भारतीय संस्कृति को जानने व समझने के लिए हरिद्वार पहुंचे 10 देशों के युवा

इंडियन काउंसिल फॉर कल्चरल रिलेशंस (आईसीसीआर) एवं देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कल्चरल हेरीटेज कैम्प के तहत 10 देशों के 36 विद्यार्थी भारतीय संस्कृति को जानने के लिए हरिद्वार स्थित विश्वविद्यालय पहुंच गए हैं।

यमन, नामीबिया, अफगानिस्तान, श्रीलंका, कम्बोडिया, मंगोलिया, दक्षिण कोरिया, नेपाल, बांग्लादेश तथा मॉरिशस के युवक-युवतियों वाला यह दल अपने दस दिवसीय भारत भ्रमण के दौरान पांच दिन उत्तराखंड में रहेगा और हरिद्वार सहित अन्य जगहों पर भारतीय संस्कृति का अध्ययन करेगा।

विश्वविद्यालय द्वारा हरिद्वार में जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, गंगा दशहरा और गायत्री जयंती से पूर्व विश्वविद्यालय पहुंचे दल ने गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या तथा संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी से मुलाकात भी की। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने कहा कि इस समय संपूर्ण उत्तराखंड उत्साह के साथ गंगा दशहरा का पर्व मना रहा है और खासतौर से हरिद्वार भारतीय संस्कृति के रंग में रंगा हुआ है।

इस दौरान दल ने विश्वविद्यालय में चल रहे विभिन्न क्रियाकलापों में भागीदारी दर्ज करने की इच्छा भी व्यक्त की। मंगोलिया के बट्टूमूर खान्दसुरेन, अफगानिस्तान के मोहिबुल्लाह हबीबी तथा जमैद जमशुल्ला, दक्षिण कोरिया की यून ए कीम, बांग्लादेश के श्रीमोय नाथ, यमन के अनास अब्दुल्ला अलक्वेधी, काम्बोडिया के वेन्डी यू आदि ने शांतिकुंज और विश्वविद्यालय में बिताए जा रहे समय को अपने लिए कभी नहीं भूलने वाला बताया।