दिल्ली में 400 करोड़ रुपये के कथित टैंकर घोटाला मामले में भ्रष्टाचार निरोधक शाखा या सीबीआई से एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर दिल्ली बीजेपी नेताओं ने बुधवार को उप-राज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात की और इस संबंध में ‘तथ्यों को दबाने’ के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम एफआईआर में शामिल करने पर जोर दिया।

बीजेपी ने जंग को सौंपे अपने ज्ञापन पत्र में दावा किया कि आप सरकार द्वारा गठित तथ्यान्वेषण समिति ने पिछले साल जुलाई के अंत में अपनी रिपोर्ट पेश की थी और जल मंत्री कपिल मिश्रा ने 11 महीने पहले मुख्यमंत्री को आगाह भी किया था।

दिल्ली बीजेपी के मीडिया प्रभारी प्रवीण कपूर ने एक बयान में कहा, ‘मिश्रा ने इस संदर्भ में मुख्यमंत्री केजरीवाल को पत्र लिखा था और समिति की रिपोर्ट भी जमा कराई थी, लेकिन उन्होंने 11 महीनों तक इस फाइल को दबाए रखा। लिहाजा कानूनी रूप से वह इस घोटाले में लिप्त व्यक्ति को बचाने के मामले में दोषी हैं।’