विश्वप्रसिद्ध कैलाश-मानसरोवर यात्रा का पहला दल सोमवार को अल्मोड़ा से अपने दूसरे पड़ाव धारचूला के लिए रवाना हो गया है। पहले दल में 8 महिलाओं सहित 55 यात्री शामिल हैं।

यात्रियों ने भोले-बाबा के जयकारे लगाते हुए अपनी यात्रा शुरू की। इस बार यात्रा में 18 दल शामिल किए गए हैं। कुमांऊ मंडल विकास निगम ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। मौसम ने साथ दिया था तो सभी 18 दलों के यात्री भगवान शंकर के दर्शन करेंगे।

सोमवार के दल में 5 जोड़े भी इस यात्रा में भगंवान शंकर के दर्शन करने जा रहे हैं। लाईजनिंग ऑफिसर इस दल कि सभी यात्रियों को एक परिवार मानकर यात्रा कर रहे हैं। इसमें कई यात्री पहली बार जा रहे हैं।

Kailash-mansarovar

जत्थे में दिल्ली और राजस्थान के 10-10 यात्री हैं, जबकि पहले ही दल में उत्तराखंड से भी दो लोग हैं। बता दें कि भारत सरकार ने पिछले साल सिक्किम के नाथुला दर्रे से भी यात्रा शुरू करा दी है। जो पूरी तरह गाड़ियों से ही यात्रा होती है, लेकिन फिर भी पैदल यात्रा में भी कोई कमी नहीं आ रही हैं।

यात्री उत्तराखंड के रास्ते कई किलोमीटर पैदल चलकर कैलाश पर्वत में विराजमान भगवान शिव शंकर के दर्शन के लिए उत्साहित हैं।