देहरादून जिले में विकासनगर के एक मंदिर में दलितों के प्रवेश पर पिछले दिनों हुए बवाल का मामला जनहित याचिका के जरिए नैनीताल स्थित उत्तराखंड हाईकोर्ट में पहुंच गया है। याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने डीएम देहरादून को दो हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा है। साथ ही कोर्ट ने याची व उसके परिवार को सुरक्षा देने के निर्देश एसएसपी देहरादून को दिए हैं।

विकासनगर, देहरादून निवासी दौलत कुंवर ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा कि जौनसार बावर में पिछले दिनों दलितों के मंदिर में प्रवेश करने पर सवर्ण जाति के लोगों ने आपत्ति जताई और मारपीट की। पथराव में याचिकाकर्ता व उसके साथी घायल हो गए थे। उस दौरान बीजेपी सांसद तरुण विजय पर भी हमला किया गया था।

याची ने कोर्ट से अनुरोध किया कि जौनसार बावर के मंदिरों में दलितों के जाने पर सवर्णों द्वारा रोक लगाने से बचाने के लिए प्रशासन से कहा जाए और उनके मंदिरों में प्रवेश को सुनिश्चित करवाया जाए। याचिकाकर्ता के वकील आयुष नेगी की ओर से बताया गया कि जनहित याचिका दायर करने के बाद याचिकाकर्ता व उसके परिवार को जान का खतरा हो गया है।

attack-on-tarun-vijay

शुक्रवार को दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद मुख्य न्यायाधीश केएम जोसेफ एवं न्यायमूर्ति वीके बिष्ट की खंडपीठ ने याचिकाकर्ता व उसके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश एसएसपी देहरादून को दिए। कोर्ट ने डीएम देहरादून को इस संबंध में दो सप्ताह के भीतर विस्तृत शपथपत्र देने को कहा है।

tarun-vijay

वहीं याचिकाकर्ता दौलत कुंवर की ओर से मीडिया को बताया गया कि वह पिछले 13 वर्षों से उत्तराखंड में दलितों पर होने वाले अत्याचारों का विरोध करते हुए उनके हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने पिछले साल जौनसार भाबर के परशुराम मंदिर में दलितों और औरतों के प्रवेश कराने में जीत हासिल की है।