भारतीय संसद फाइल फोटो

राज्यसभा चुनाव में बीजेपी एक बार फिर कांग्रेस को चौंकाने की तैयारी में है। अंदरखाने अनिल गोयल को राज्यसभा भेजने की बात तय भी हो चुकी है। इसके लिए शुक्रवार को विधायकों की बैठक में व्हिप जारी किया जाएगा।

वहीं खबर यह भी है कि चुनाव जीतने के लिए बीजेपी को जिन तीन विधायकों की जरूरत है, उसका भी इंतजाम हो चुका है। इस बार सारा कार्यक्रम बेहद गोपनीय रखा गया है, जिससे कांग्रेस उसकी काट न ढूंढ सके।

विधायक भीमलाल और रेखा आर्या की सदस्यता रद्द होने के बाद अब कुल 59 विधायकों को राज्यसभा के लिए वोटिंग करनी है। इस लिहाज से 30 वोट मिलने की स्थिति में संबंधित प्रत्याशी की जीत तय है। मौजूदा स्थितियों में बीजेपी के पास 27 विधायक और कांग्रेस के पास 26 विधायक हैं। इसके अलावा छह विधायक पीडीएफ के हैं।

सूत्रों की मानें तो बीजेपी आलाकमान ने किसी भी सूरत में राज्यसभा सीट हाथ से न निकलने को लेकर प्रदेश नेतृत्व को चेताया है। इसके पीछे अहम वजह राज्य सभा में बीजेपी का बहुमत न होना है, जिससे तमाम बिल पास करने में दिक्कत हो रही है। ऐसे में राज्यसभा की एक-एक सीट बीजेपी के लिए अहम है।

इस तरह किसी भी कीमत पर राज्यसभा चुनाव जीतने का भारी दबाव है। इसे देखते हुए प्रदेश बीजेपी के सभी बड़े पदाधिकारियों ने आपस में मंत्रणा करके पहले तो अनिल गोयल के पक्ष में मतदान की बात तय की है। शुक्रवार को होने वाली बैठक में इसकी घोषणा के साथ ही व्हिप भी जारी कर दिया जाएगा।

इसके अलावा चुनाव जीतने के लिए जिन तीन विधायकों की जरूरत है, उसके लिए कांग्रेस और पीडीएफ में सेंधमारी करने की भी खबर है। इस काम में हाल ही में कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए बागी विधायकों का भी सहयोग लिया गया है। माना जा रहा है कि बेहद खामोशी और गोपनीयता के साथ बनाई गई इस पूरी रणनीति से बीजेपी सबको चौंकाने वाली है।