बंदर की कारस्तानी, पूरे केन्या में चार घंटे तक छाया रहा अंधेरा

एक बंदर के कारण समूचे केन्या को बिजली संकट का सामना करना पड़ा। जब वह एक ट्रांसफार्मर पर गिर पड़ा। यह ट्रांसफार्मर देश के सबसे बड़े जलविद्युत संयंत्र का था। केनजेन पॉवर कंपनी ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी।

समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, यह जंगली नर वानर गिटारू संयंत्र की छत पर चढ़ गया, जो राजधानी नैरोबी से 160 किलोमीटर दूर ताना नदी पर है और एक प्रमुख ट्रांसफार्मर पर गिर पड़ा।

इसके कारण ट्रांसफार्मर खराब हो गया और संयंत्र से होनेवाली 180 मेगावॉट की बिजली आपूर्ति रुक गई और पूरे देश में चार घंटे तक अंधेरा छा गया। हालांकि बंदर को बचा लिया गया है और केन्या वन्यजीव सेवा उसकी देखभाल कर रही है।

केनजेन ने एक बयान जारी कर कहा, ‘केनजेन के बिजली संयंत्रों को इलेक्ट्रिक बाड़बंदी से सुरक्षित बनाया गया है, जो जंगली जानवरों के आक्रमण से बचाव करता है। हमें इस अलग घटना पर अफसोस है।’

गिटारू केन्या का सबसे बड़ा जलविद्युत संयंत्र है, जो देश के बिजली उपभोग के कम से कम पांचवें हिस्से का उत्पादन करता है और इसकी अधिकतम क्षमता 225 मेगावॉट है।