पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस ने जुटाए 10 लाख दस्तखत

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफे के खिलाफ 10 लाख लोगों के दस्तखत इकट्ठा करने के लिए दिल्ली कांग्रेस की ओर से चलाया गया तीन दिवसीय अभियान बुधवार को संपन्न हो गया।

कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हो रहे इजाफे के लिए केंद्र की बीजेपी और दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार को जिम्मेदार ठहराया और सवाल किया कि ‘जब ईंधन की दरें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कम हुई हैं, तो भारत में ये कीमतें क्यों बढ़ाई जा रही हैं’।

दिल्ली कांग्रेस के प्रमुख अजय माकन ने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत 58 डॉलर प्रति बैरल के स्तर तक गिर गई है। यदि उत्पाद शुल्क और वैट वापस ले लिए जाएं तो दिल्ली में पेट्रोल 38 रुपये और डीजल 30 रुपये प्रति लीटर की दर से बेचे जा सकते हैं।’

माकन ने कहा, ‘मोदी और केजरीवाल टैक्स से कीमतें बढ़ गई हैं और लोगों को पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतें चुकाकर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।’