रियो ओलंपिक : अभी टूटा नहीं है मैरीकॉम का सपना, वाइल्ड कार्ड की उम्मीदें बरकरार

भारत की स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने आगामी रियो ओलंपिक के लिए वाइल्ड कार्ड से एंट्री मिलने की उम्मीद जताई है। मैरीकॉम क्‍वालीफायर के जरिए ओलिंपिक में जगह बनाने में नाकाम रही, लेकिन इस स्टार मुक्केबाज का सपना नहीं टूटा है। क्योंकि भारत ने पांच अगस्त से शुरू हो रहे रियो खेलों के लिए उनका नाम वाइल्ड कार्ड के लिए भेजा है।

मैरीकॉम ने बैंगलुरू में एक कार्यक्रम के इतर कहा, ‘मैं सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद कर रही हूं। इस महीने के अंत में पता चल जाएगा।’ मैरीकॉम (51 किग्रा) पिछले महीने विश्‍व चैंपियनशिप के जरिए रियो के लिए क्‍वालीफाई करने में नाकाम रही थी जो महिला मुक्केबाजों के लिए दूसरा और अंतिम क्‍वालीफाइंग टूर्नामेंट था।

इस स्टार मुक्केबाज ने कहा, ‘भारतीय ओलंपिक संघ और (मुक्केबाजी की) तदर्थ समिति मुझे वाइल्ड कार्ड दिलाने की सर्वश्रेष्ठ कोशिश कर रहे हैं। अगर मुझे यह मिलता है तो मुझे बेहद खुशी होगी। यह मेरे हाथ में नहीं है। इसकी 50-50 संभावना है।’ मैरीकॉम ने कहा कि वह अब भी वर्कआउट कर रही हैं और खुद को तैयार रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था, लेकिन इसके बावजूद हार का सामना करना पड़ा।

पार्किंसन बीमारी से 32 साल जूझने के बाद हाल में गुजरे महान मुक्केबाज मोहम्मद अली के बारे में मैरीकॉम ने कहा, ‘जब मैंने ग्लव्स पहने और मुक्केबाजी को करियर के रूप में चुना तो अन्य मुक्केबाजों की तरह मैं भी मोहम्मद अली से प्रेरित थी। वह मेरे हीरो हैं और हमेशा रहेंगे। सभी मुक्केबाजों और खिलाड़ियों को उनकी कमी खलेगी।’