जिनेवा।… अपने पांच देशों के दौरे के तीसरे पड़ाव पर पीएम नरेंद्र मोदी रविवार शाम स्विट्ज़रलैंड पहुंचे और सोमवार को राष्ट्रपति जोहान श्नीडर अम्मान से मुलाकात हुई है। स्विट्जरलैंड ने एनएसजी (न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप) में भारत की एंट्री का समर्थन करने की बात कही है। इस पर पीएम मोदी ने स्विटजरलैंड का शुक्रिया अदा किया।

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद संयुक्त संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, कालेधन और कर चोरी की समस्या का मुकाबला करना हमारी साझी प्राथमिकता है। कर नियमों का उल्लंघन करने वालों को न्याय के घेरे में लाने के लिए हमने सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान की जरूरत पर बातचीत की।

स्विट्ज़रलैंड के बाद पीएम मोदी सोमवार को ही अमेरिका के लिए रवाना हो गए, जहां उन्हें कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित करना है। पिछले दो साल में पीएम मोदी का यह चौथा अमेरिकी दौरा है।

पीएम मोदी ने शनिवार को अफगानिस्तान की यात्रा की थी। वह कतर की दो दिनों की यात्रा के बाद यहां पहुंचे। कतर की यात्रा के दौरान उन्होंने वहां के नेतृत्व से कई मामलों पर बातचीत की।

इससे पूर्व विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, नमस्कार जिनेवा, स्विट्जरलैंड के सुंदर शहर में कल रात आगमन के साथ ही प्रधानमंत्री की यात्रा के तीसरे पड़ाव की शुरुआत हो गई। पीएम मोदी ने पांच देशों की यात्रा से पहले स्विट्जरलैंड को यूरोप में भारत का अहम साझीदार बताया था।

इससे पहले कतर दौरे के समापन से पहले भारतीय समुदाया द्वारा आयोजित स्वागत समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि दुनियाभर में भारत की छवि निखरने के साथ पूरी दुनिया भारत के प्रति आकर्षित है। यहां तक कि आप भी महसूस कर रहे होंगे कि भारत में बदलाव हो रहा है। भारत की छवि दुनिया भर में निखरी है। वहां जुटी भीड़ ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगा रही थी।