बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट का कहना है कि मुख्यमंत्री हरीश रावत जनविरोधी नीतियों के कारण जनता और खुद अपनी पार्टी में भी अलग-थलग पड़ गए हैं। उन्होंने कहा, इसी परेशानी में वह राज्यसभा चुनाव के बाद राज्य में विधानसभा चुनाव कराने की घोषणा कर सकते हैं।

अजय भट्ट ने कहा, बांटी जा रही लालबत्तियों को कांग्रेस के ही विधायक लौटा रहे हैं। उनके विधायक लगातार हरीश रावत सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। इससे साफ है कि मुख्यमंत्री ने मंत्री बनाने के लिए दस से अधिक विधायकों से वायदा किया होगा। अब जब असलियत खुल रही है तो पार्टी में विद्रोह हो रहा है।

लंढौरा कांड मुख्यमंत्री की साजिश
इसी तरह राज्यसभा चुनाव, पीडीएफ को लेकर भी कांग्रेस में मुख्यमंत्री की खिलाफत हो रही है। यहां तक कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी नाराज हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि लंढौरा के घटनाक्रम से पूरे देश में कांग्रेस सरकार की जो फजीहत हुई, उसने मुख्यमंत्री को जनता से अलग कर दिया है।

लंढौरा में कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के महल पर हमला, बवाल, आगजनी मुख्यमंत्री के इशारे पर हुआ था।