बीजेपी ने चोर दरवाजे से राजसभा चुनाव के मैदान में उतारे दो प्रत्याशी : हरीश रावत

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मंगलवार को आरोप लगाया कि उत्तराखंड से राज्यसभा के लिए चुनाव मैदान में उतरे दो निर्दलीय बीजेपी के सक्रिय सदस्य हैं और यह स्थापित मानकों पर भगवा दल का ‘हमला’ है।
कांग्रेस के प्रदीप टमटा द्वारा राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करने के बाद हरीश रावत ने अस्थायी राजधानी देहरादून में संवाददाताओं से बातचीत में कहा ‘पहले, बीजेपी ने कहा कि वह कोई प्रत्याशी नहीं उतारेगी और फिर उसने निर्दलीय के तौर पर पार्टी के दो सक्रिय सदस्यों को उतार दिया। स्थापित मानकों पर यह बीजेपी का एक और हमला है।’
उन्होंने कहा, ‘पहले उन्होंने तब मानकों पर हमला किया जब कांग्रेस में उन्होंने दलबदल कराया। यह उनका दूसरा हमला है।’ पार्टी के पर्यवेक्षक के तौर पर देहरादून आए कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक ने कहा कि इससे बीजेपी का ‘दोहरा चरित्र’ जाहिर होता है।
वासनिक ने कहा, ‘पहले तो प्रत्याशी न उतारने का ऐलान करना और फिर पिछले दरवाजे से मैदान में आ जाना… इससे पार्टी का दोहरा चरित्र जाहिर होता है। बहरहाल, हरीश रावत और वासनिक दोनों ने कहा कि उन्हें टम्टा की जीत का पूरा विश्वास है।
मंगलवार को नामांकन दाखिल करने वाले दो निर्दलीय क्रमश: गीता ठाकुर और अनिल गोयल हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि वह बीजेपी से करीबी संबंध रखते हैं।
महानगर में बीजेपी के अध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने पुष्टि की कि दोनों पार्टी कार्यकर्ता रहे हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें पार्टी ने अभी कोई आधिकारिक जिम्मेदारी नहीं दी है।
इससे पहले दिन में राज्य विधानसभा में बीजेपी के मुख्य सचेतक मदन कौशिक ने कहा कि पार्टी राज्य से राज्यसभा की सीट के लिए किसी को नामांकित नहीं करेगी, क्योंकि उसके पास संख्या बल नहीं है। बहरहाल, उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई निर्दलीय संपर्क करे तो पार्टी उसे समर्थन देने पर विचार कर सकती है।