बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, अगर मोदी के खिलाफ कहीं जोर से आवाज आई है तो समझ लेना की मोदी ने कहीं ‘चाबी टाइट’ की है। पढ़ें संबोधन की मुख्य बातें…

जब हम विदेश में जाते हैं तो राजदूतों को तो मिलते हैं, लेकिन लोकदूतों को मिलना एक सौभाग्‍य होता है। आप भारत के लोकदूत हैं। भारत की सांस्‍कृतिक परंपरा, भारत को दुनिया के सामने अपने व्‍यवहार, वाणी, विचारों से परिचित करवाते हैं, प्रभावित करते हैं। ऐसे सभी हजारों लोकदूतों को नमस्‍कार।

गत सप्‍ताह यहां भयंकर आतंकी घटना घटी। दुनिया के 90 देश किसी न किसी आतंकी घटना के शिकार हुए। आतंकवाद किसी देश या भूभाग को चुनौती नहीं है। यह मानवता को चुनौती दे रहा है। मानवता में विश्‍वास करने वाली दुनिया की सारी शक्तियों का एक साथ आकर आतंकवाद से मुकाबला करना होगा।

समय की मांग है कि दुनिया आतंकवाद की भयानकता को समझे। भारत 40 साल से आतंकवाद के कारण परेशान है। युद्ध में भारत ने जितने जवानों को नहीं गवाया, उससे ज्‍यादा जवान आतंकियों की गोलियों से शहीद हुए। आतंकवाद निर्दोषों के जीवन का दुश्‍मन बन चुका है।

जब धरती पैरों के नीचे से हिलने लगी तब दुनिया को पता चला कि आतंकवाद क्‍या होता है। 9/11 ने दुनिया को झकझोर दिया, तब तक दुनिया मानने को तैयार नहीं थी कि भारत कितने बड़े संकट को झेल रहा है, लेकिन भारत आतंकवाद के सामने झुका नहीं और झुकने का तो सवाल ही नहीं उठता।

सिर्फ बम, बंदूक से आतंकवाद को नहीं रोक सकते। हमें समाज में एक माहौल तैयार करना होगा। युद्ध क्‍या होता है, किसने क्‍या करना चाहिए, इससे क्‍या संकट होते हैं और रोकने के क्‍या तरीके होते हैं, लेकिन आतंकवाद को रोकने की पूछो तो संयुक्‍त राष्‍ट्र को इसे रोकने और इससे उबरने के बारे में नहीं पता।

भारत ने संयुक्‍त राष्‍ट्र से पिछले समय से रिजोल्‍यूशन पास कर आतंकवाद के समर्थकों को चिन्हित करने को कहा है। मैं नहीं जानता यूएन इसे कब करेगा और कैसे करेगा। इसमें जितनी देरी की जाएगी, नुकसान उतना ज्‍यादा होगा।

आज पूरा विश्‍व आर्थिक संकट से भी गुजर रहा है। अच्‍छे से अच्‍छे देशों की अर्थव्‍यवस्‍था हिल चुकी है। ऐसे में दुनिया एक स्‍वर से कह रही है कि दुनिया की कोई आशा की किरण है तो वह ‘हिंदुस्‍तान’ है। यह मोदी के कारण नहीं, सवा सौ करोड़ हिंदुस्‍तानियों की वजह से हुआ है। दुनिया भर में फैले हिंदुस्‍तानियों के कारण हुआ है।

भारत तेज गति से आर्थिक विकास कर रहा है। अगर दिशा सही हो, नीतियां स्‍पष्‍ट हों और इससे भी बढ़कर नियत साफ हो तो भारत जैसे देश को कोई रोक नहीं सकता। भारत आगे बढ़ सकता है।

साल 2015 में एक वर्ष में गरीबों को सबसे ज्‍यादा गैस सिलेंडरों का कनेक्‍शन देने का काम हमारी सरकार ने किया। 90 लाख लोगों ने अपनी गैस सब्सिडी सरेंडर कर दी।

हम वोट बैंक की राजनीति नहीं करते। जो वोट नहीं देते, उनका भी भला करते हैं।

गरीबों को अर्थव्‍यवस्‍था की मुख्‍य धारा में लाते हुए देश में 21 करोड़ नए बैंक खाते ‘जन-धन योजना’ के तहत खुले।
गरीबों की अमीरी देखिए, 34000 करोड़ रुपये गरीबों ने बैंकों में जमा कराए। बैंक से लेकर भागने वाले अलग हैं और बैंकों में जमा करने वाले अलग हैं।

अगर मोदी के खिलाफ कहीं जोर से आवाज आई है तो समझ लेना की मोदी ने कहीं ‘चाबी टाइट’ की है। आवाज जितनी जोर से आएगी तो समझ लेना की ‘दाल में कुछ काला’ है.. कभी-कभी तो ‘पूरी दाल ही काली’ नजर आती है।

हमारे देश की सेना के जवान पिछले 40 साल से ‘वन रैंक-वन पेंशन’ की मांग कर रहे थे, लेकिन सरकारें वायदे करती रहती थीं। संतोष के साथ कहता हूं कि मां भारती के लिए जीने-मरने वालों को ‘ओआरओपी’ देना शुरू कर दिया है।

बांग्‍लादेश से जल-भूमि सीमा विवाद बातचीत से सुलझाया गया। कुछ पड़ोसी हैं, जिन्‍हें बात गले नहीं उतरती। अब पड़ोसी कैसे बदलेंगे… उन्‍हें भी कभी न कभी समझ आएगा।

भारत में टूरिज्‍म, रोजगार के लिए बहुत संभावना है। भारत दुनिया का सबसे नौजवान देश है। देश नई ऊंचाईयों को पार करता रहेगा… आगे बढ़ता चला जाएगा… सपनों को पूरा करेगा।