प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स माइकल ने बुधवार को एशिया की सबसे बड़ी दूरबीन ‘आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान’ (एरीज) का उद्घाटन रिमोट से किया, जिसे बेल्जियम के सहयोग से बनाया गया है।

मोदी ने नैनीताल के पास देवस्थल में स्थित दूरबीन का उद्घाटन करने के बाद कहा, ‘प्रधानमंत्री माइकल और मैंने अभी भारत की सबसे बड़ी प्रकाशीय दूरबीन का यहां से उद्घाटन किया।’ कई परियोजनाओं पर दोनों देशों के बीच सहयोग का उल्लेख करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इसकी कोई सीमा नहीं है।

एशिया में अपनी तरह की सबसे बड़ी प्रकाशीय दूरबीन ‘एरीज’ भारत-बेल्जियम की साझेदारी में बना उत्पाद है। इसका उपयोग तारों की संरचनाओं और उनके चुंबकीय क्षेत्र की संरचनाओं का अध्ययन करने में किया जाएगा।

इस मौके पर बेल्जियम के प्रधानमंत्री माइकल के साथ मौजूद मोदी ने कहा, ‘भारत-बेल्जियम की साझेदारी में विकसित यह उत्पाद इस बात का प्रेरणादायी उदाहरण है कि हमारी साझेदारी में क्या परिणाम आ सकते हैं।’

उन्होंने कहा, ‘सूचना और संचार प्रौद्योगिकी, दृश्य-श्रव्य उत्पादन, पर्यटन, जैवप्रौद्योगिकी और पोत परिवहन तथा बंदरगाहों के क्षेत्रों में अन्य समझौतों पर भी कामकाज जारी है।’