‘उत्तराखंड मामले में ‘भूत के मुंह से राम-राम’ निकल रहा है’

उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर कांग्रेस की तरफ से मोदी सरकार की आलोचना को ‘भूत के मुंह से राम राम’ की संज्ञा देते हुए संसदीय मामलों के मंत्री एम वेंकैया नायडू ने दलील दी कि कांग्रेस और उसके तरफदारों ने ’91 गैर कांग्रेसी सरकारों को बर्खास्त किया।’

नायडू ने एक बयान में कहा, ‘कांग्रेस और उसके समर्थकों ने 91 गैर कांग्रेसी सरकारों को बर्खास्त किया और अब वे शोर मचा रहे हैं। यह भूत के मुंह से राम राम बोलने जैसा है। जब आप ऐसा करते हैं तो आप लोकतंत्र की रक्षा करते हैं जब हमने संवैधानिक जरूरत को देखते हुए किया तो हम लोकतंत्र के हत्यारे हैं।’

आंकड़े गिनाते हुए नायडू ने कहा कि इंदिरा गांधी के शासनकाल में 50 बार, पी.वी. नरसिंह राव के शासन काल के दौरान 11 बार, मनमोहन सिंह के कार्यकाल में 10 बार और जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में सात बार राष्ट्रपति शासन लगाया गया।

संसदीय कार्यमंत्री नायडू ने इन ‘तथ्यों’ की तुलना बीजेपी के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में छह बार राष्ट्रपति शासन लगाने से की।

ऐसे समय जब एनडीए सरकार उत्तराखंड मुद्दे पर वाम सहित विपक्ष के समन्वित हमले का सामना कर रही है, नायडू ने कांग्रेस को याद दिलाया कि ‘आपने केरल में 1959 में ई.एम.एस नंबूदरीपाद की पहली वामपंथी सरकार को बर्खास्त किया था।