उत्तराखंड में कई दिनों के सियासी बवाल के बाद आखिरकार रविवार को राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के बाद मुख्यमंत्री हरीश रावत राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंचे।

मुख्यमंत्री के साथ वरिष्ठ मंत्री इंदिरा हृदयेश और एपी मैखुरी भी मौजूद थीं। राजभवन में राज्यपाल से भेंट न होने पर हरीश रावत ने एडीसी पत्र देकर 28 मार्च को बहुमत साबित करने देने की मांग की है।

हरीश रावत ने पत्र में कहा कि मैं अपनी पार्टी की ओर से अनुरोध करता हूं कि मुझे 28 मार्च को सदन में बहुमत साबित करने दिया जाए। उन्होंने एक बार फिर दावा किया कि उनके पास पूर्ण बहुमत है।

गौरतलब है कि उत्तराखंड में रविवार को राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने रविवार सुबह राष्ट्रपति शासन लागू करने से संबंधित केंद्र सरकार की सिफारिश पर हस्ताक्षर कर दिए।

राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने पर हरीश रावत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथ जन आकांक्षाओं के खून से रंगे हैं।