उत्तराखंड कांग्रेस के बागी विधायक और पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री हरीश रावत पर विधायकों को खरीदने की कोशिश का आरोप लगाया है। हरक सिंह रावत ने कहा कि सरकार बचाने के लिए मुख्यमंत्री बागी विधायकों के साथ-साथ बीजेपी विधायकों को भी पैसों का लालच दे रहे हैं। यही नहीं उन्होंने सीएम हरीश रावत से बागी विधायकों की जान को खतरा होने की आशंका भी जाहिर की है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बागी विधायकों ने मुख्यमंत्री हरीश रावत के ‘स्टिंग ऑपरेशन’ की एक सीडी भी जारी की है। इस वीडियो में हरीश रावत बागी विधायकों को पैसों का ऑफर देते दिखाई दे रहे हैं। कांग्रेस से निष्कासित किए गए साकेत बहुगुणा ने दावा किया है कि यह स्टिंग ऑपरेशन पत्रकार उमेश शर्मा ने किया था।

बागी विधायकों का नेतृत्व कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा ने कहा कि हरीश रावत में हमें खरीदने की क्षमता नहीं है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल और साकेत बहुगुणा भी मौजूद थे।

जानकारी के अनुसार, 23 मार्च को जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पत्रकार उमेश कुमार मुख्यमंत्री हरीश रावत की हरक सिंह रावत की बात कराने गए थे, तभी इस बातचीत का उन्होंने स्टिंग ऑपरेशन कर लिया।

इस स्टिंग ऑपरेशन में सीएम हरीश रावत विधायकों की खरीद-खरोख्त के लिए 25 करोड़ रुपये तक का ऑफर देते सुनाई दे रहे हैं। स्टिंग ऑपरेशन में हरीश रावत कर रहे हैं पैसों के लेन-देन की बातचीत करते दिखाई दे रहे हैं। मुख्यमंत्री पैसों के लेन-देन में अपनी मां की कसम खाते हुए भी दिख रहे हैं।

वहीं, मुख्यमंत्री के स्टिंग ऑपरेशन की सीडी सामने आने के बाद इसको लेकर विधानसभा में भी चर्चाओं का दौर गर्म रहा। विधानसभा में भी कार्मिकों ने टीवी चैनल्स पर स्टिंग ऑपरेशन देखा।