कहते हैं कि जो व्यक्ति दूसरे का घर फूंकने की कोशिश करता है, उसके खुद के हाथ भी जल जाते हैं। उत्तराखंड में उपजे सियासी संकट में अपने लिए मौका तलाश रही बीजेपी को भी ऐसी ही आशंका सता रही है।

कुछ कांग्रेस विधायकों के खुलेआम बगावत करने बाद से सियासी संकट हर पल नई करवट ले रहा है। कांग्रेस के बागी विधायकों को गुड़गांव के आलीशान होटल से जयपुर शिफ्ट किया गया और फिर मंगलवार शाम वे सब दिल्ली भी लौट आए।

इस नया डेवलपमेंट यह है कि अब बीजेपी को अपने विधायकों की चिंता सताने लगी है। ऐसे में पार्टी में किसी भी फूट की आशंका को समाप्त करने के लिए बीजेपी आलाकमान हरसंभव कोशिश कर रहा है।

सूत्रों का कहना है कि राज्य में सियासी संकट को देखते हुए बीजेपी कोई खतरा मोल नहीं लेना चाहती है। ऐसे में बीजेपी विधायकों को भी दिल्ली से बाहर भेजा जा सकता है। ऐसे में इसकी पूरी संभावना है कि ये विधायक इस बार होली बाहर ही मनाएंय़

दरअसल, कांग्रेस के आठ बागी विधायकों ने मंगलवार का पूरा दिन जयपुर के पास एक फार्म हाउस में गुजारा, लेकिन शाम को वे दिल्ली लौट आए। पूर्व मुख्यमंत्री और बगावत का झंडा बुलंद करने वाले विजय बहुगुणा दिल्ली में ही अपने आवास पर हैं। बताया जा रहा है कि दिल्ली में रहकर बहुगुणा बीजेपी के साथ मिलकर आगे की रणनीति को अंजाम देने में जुटे हैं।

गौरतलब है कि 70 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी के 28, कांग्रेस के 36, बसपा के 2, उत्तराखंड क्रांति दल के 1 और निर्दलीय 3 विधायक हैं। इनमें से कांग्रेस के 9 विधायक बागी हो चुके हैं और अब कांग्रेस के पास सैद्धांतिक तौर पर 27 एमएलए ही हैं, जिससे रावत सरकार का समीकरण गड़बड़ा गया।