केंद्र की भाजपानीत सरकार को ‘अतिबलशाली’ बताते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोमवार को आरोप लगाया कि वह अपनी पूरी ताकत से उत्तराखंड जैसे छोटे राज्य के सपनों को चकनाचूर करने में लगा रही है। उन्होंने कहा, अगर ऐसे ही सत्ताबल, धनबल और बाहुबल से मुख्यमंत्री बदले जाते रहेंगे तो राज्य में अस्थिरता आएगी।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अस्थायी राजधानी देहरादून में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘उत्तराखंड में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। धर्मनिरपेक्षता की हत्या हो रही है। केंद्र की अतिबलशाली सरकार अपनी पूरी ताकत से उत्तराखंड जैसे छोटे राज्य के सपनों को चकनाचूर करना चाह रही है।’

इस संबंध में उन्होंने कहा कि हरीश रावत महत्वपूर्ण नहीं है और मुख्यमंत्री तो आते-जाते रहते हैं लेकिन यदि धनशक्ति से सत्ता मे परिवर्तन होगा तो इस राज्य में हर साल कोई धनपशु आकर अपदस्थ कर देगा। उन्होंने कहा, ‘ऐसे में मुख्यमंत्री गंदे रुमालों की तरह बदले जाते रहेंगे और प्रदेश में अस्थिरता आएगी।’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मेरे राज्य में गंदगी मत फैलाओ। एक कैंसर जैसे रोग को उत्तराखंड के शरीर में प्रविष्ट करने का काम मत करो। क्या मैं इतना नामुराद हूं या आप पर इतना भारी पड़ रहा हूं कि आप मुझे देखना भी नहीं चाहते या मेरे अंदर कोई जन्मजात विकलांगता है? अगर ऐसा है तो आप बता दें, मैं हाथ जोड़कर खुद ही चला जाऊंगा।’

इस संबंध में उन्होंने कहा कि हाल में हुए राजनीतिक घटनाक्रम के बाद वह यह फैसला राज्य की प्रबुद्ध जनता पर छोड़ना चाहते हैं कि क्या सही हुआ या गलत। हालांकि, रावत ने यह भी कहा कि इसी मकसद के लिए विधानसभा आहूत हो चुकी है और संवैधानिक संस्थाओं के समक्ष यह मामला है और ऐसे समय मे किसी तरह की टिप्पणी करना उचित नहीं होगा।

रावत ने बीजेपी की आलोचना करते हुए कहा कि वह स्मार्ट सिटी मामले और खनन क्षेत्र में व्यापक भ्रष्टाचार और नैनीसार में पूंजीपतियों को प्रदेश की बेशकीमती जमीन औने-पौने दामों पर देने के झूठे और तथ्यहीन आरोप लगा रही है। रावत ने कहा, ‘बीजेपी इस प्रकार के तथ्यहीन आरोप लगाकर राज्य का वातावरण दूषित कर रही है और राज्य के विकास के लिए नीतियां बनाए जाने की बजाय इस बात पर सब लगे हुए हैं कि ‘तू चोर है और मैं चोर नहीं हूं।’ उन्होंने कहा कि जल्दी ही वह बीजेपी के उन मूर्धन्य नेताओं के नामों की सूची जारी करेंगे, जिन्हें पूर्व में राज्य में बहुत ही कम दामों पर सरकारी जमीने आवंटित की गई हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘देहरादून में स्मार्ट सिटी के प्रस्ताव के लिए राज्य सरकार पांच जोन बनाकर जनता की राय ले रही है जबकि नदियों में खनन के लिए जारी किये गए 400-500 पट्टे पहले की सरकार के कार्यकालों में ही जारी हुए। जहां तक नैनीसार में जमीन आवंटन का सवाल है जो वह राज्य सरकार की पर्वतीय क्षेत्र में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए निजी क्षेत्र के निवेश को बढ़ावा देने की नीति का हिस्सा है।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों के हाथ उत्तराखंड में लोकतत्र की हत्या कर रहे हैं, उनसे ऐसे आरोप सुनना नागवार गुजरता है। रावत ने कहा, ‘जिन लोगों के हाथ उत्तराखंड में लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं, विधानसभा की मर्यादा की हत्या कर रहे हैं, संस्थाओं को तोड़ने का काम कर रहे हैं। ऐसे लोगों से इस प्रकार के आरोप सुनना बहुत नागवार गुजरता है।’