चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग-फाइल फोटो

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सोमवार को कहा कि चीन और भारत के बीच नेपाल एक पुल का काम कर सकता है। उन्होंने कहा, नेपाल में स्थिरता एवं विकास हो, यह ‘दोनों बड़े पड़ोसी देशों’ के साझा हित में हैं।

शी ने देश की यात्रा पर आए नेपाली प्रधानमंत्री के.पी. ओली से बीजिंग में मुलाकात के दौरान उनसे कहा, ‘नेपाल-चीन और भारत के बीच एक पुल का काम कर सकता है।’ इससे पहले दोनों देशों ने एक ऐतिहासिक पारगमन समझौते पर हस्ताक्षर किया। समझौते से आपूर्तियों को लेकर नेपाल की भारत पर निर्भरता कम हो जाएगी।

ओली ने हाल में भारत की भी यात्रा की थी। प्रधानमंत्री के तौर पर अपनी पहली चीन यात्रा पर आए ओली ने चीनी प्रधानमंत्री ली केक्यांग के साथ कई मुद्दों पर बातचीत की और राष्ट्रपति शी से मिले।

शी ने चीन-नेपाल-भारत के त्रिपक्षीय संबंधों को लेकर कहा कि उन्हें उम्मीद है कि नेपाल को चीन और भारत के विकास का फायदा मिलेगा।

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने अपनी खबर में कहा कि राष्ट्रपति ने कहा कि नेपाल में स्थिरता एवं विकास हो, यह ‘दोनों बड़े पड़ोसी देशों’ के साझा हित में है।

उन्होंने कहा कि नेपाल और चीन को दोनों देशों को ‘समान लक्ष्य की तरफ बढ़ रहा समुदाय’ बनाने के लिए पारंपरिक मित्रता को आगे ले जाना चाहिए और व्यावहारिक सहयोग का विस्तार करना चाहिए।