एक कहावत कही जाती है कि ‘पूत तो कुपूत हो सकता है, लेकिन माता कभी कुमाता नहीं हो सकती।’ लेकिन जब कलयुग चरम पर हो तो इस कहावत के शत प्रतिशत सही होने की कोई गारंटी नहीं है। उधमसिंह नगर जिले में एक माता के कुमाता बनने का मामला सामने आया है।

चंद रुपयों की खातिर एक सौतेली मां ने अपनी नाबालिग बेटी को दरिंदों के हाथों सौंप दिया। दरिंदों ने भी लड़की पर कोई रहम नहीं किया और लड़की को पहले जबर्दस्ती शराब पिलाकर उसके साथ गैंगरेप किया और फिर मारपीट भी की।

शराब का नशा उतरते ही पीड़िता ने अपने भाई को किसी तरह इसकी सूचना दी। पुलिस को इस वारदात की सूचना मिली तो नाबालिग को सरकारी अस्पताल में ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने मेडिकल के लिए पुलिस को मैमो भेजा, लेकिन पुलिस ने इस मामले को अनसुना कर दिया।