बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उतराखंड के राजनीतिक संकट को लेकर बीजेपी पर लोकतंत्र और संविधान का मजाक उड़ाने का आरोप लगाया है। उन्होंने रविवार को कहा कि अगर बीजेपी को यही करना है तो भारतीय संविधान से 10वीं अनुसूची को हटा देना चाहिए।

चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज द्वारा रविवार को पटना में आयोजित होली मिलन समारोह के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए नीतीश ने उतराखंड के राजनीतिक संकट पर कहा कि अगर बीजेपी को यही करना है तो भारतीय संविधान से 10वीं अनुसूची दल-बदल कानून को हटा देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि दल पर आधारित संसदीय लोकतंत्र का इससे बड़ा कोई मजाक नहीं हो सकता है। इस तरह से अगर दल-बदल को प्रोत्साहित करना है तो दल-बदल पर बनाए गए कानून को हटा देना चाहिए।

इस होली मिलन समारोह में राज्यपाल रामनाथ कोविंद, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, सांसद व केन्द्रीय राज्यमंत्री रामकृपाल यादव, अध्यक्ष बिहार विधानसभा विजय कुमार चौधरी, आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, विधायक श्याम रजक सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति एवं बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के सदस्य शामिल हुए।

इस होली मिलन समारोह का उद्घाटन राज्यपाल रामनाथ गोविद, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर राज्यपाल मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख ने सभी लोगों को होली की शुभकामनाएं दी।

इस मौके पर बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष ओ.पी. साह ने गणमान्य अतिथियों को फूलों का गुलदश्ता एवं पगड़ी भेंट की। राजस्थान से आए कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति भी दी गई।