बिक्री के लिए रखे गए टमाटर ज्यादा दिन हो जाने पर अक्सर खराब हो जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि इनसे बिजली भी बनाई जा सकती है।

एक शोध में यह जानकारी सामने आई है, जिसमें भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक भी हैं। साउथ डेकोटा स्कूल ऑफ माइन्स एंड टेक्नोलॉजी की नमिता श्रेष्ठ ने कहा कि हमने बेकार हो चुके टमाटरों से बिजली पैदा करने का तरीका खोज निकाला है।

श्रेष्ठ ने यह शोध साउथ डेकोटा के अस्टिटेंट प्रोफेसर वेंकटरामन्ना गधामशेट्टी और प्रिंसटन विश्वविद्यालय के रसायन शास्त्र के अंडरगेजुएट छात्र एलेक्स फोग के साथ मिलकर किया है।
गधामशेट्टी का कहना है कि इस परियोजना पर हमने दो साल पहले काम शुरू किया था।

उन्होंने बताया तब एलेक्स ने मेरे प्रयोगशाला का दौरा किया था। वह एक स्थानीय समस्या पर शोध का इच्छुक था, क्योंकि हमारे राज्य में काफी टमाटर उगाया जाता है, जिसका एक बड़ा हिस्सा बेकार हो जाता है। इसे ठिकाने लगाना भी एक बड़ी समस्या है।

यह शोध 251वें नेशनल मीटिंग एंड एक्सपोसिसन ऑफ से अमेरिकन केमिकल सोसायटी में प्रस्तुत किया गया, जिसका आयोजन बुधवार को केलिफोर्निया के सैन डियागो शहर में किया गया।