विपक्ष के भारी हंगामे के बीच उत्तराखंड सरकार ने शुक्रवार को विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2016-17 के लिए 40422 करोड़ का बजट पेश किया। चुनावी वर्ष में प्रदेशवासियों के लिए वित्तमंत्री इंदिरा हृदयेश ने विधानसभा में अपना पिटारा खोल दिया है। वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में कई वादे किए।

बीजेपी विधायकों ने बजट को निराशाजनक बताया है। पूर्व कैबिनेट मंत्री विजया बडथ्वाल का कहना है कि महिला, पहाड़ और पलायन पर फोकस नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री ने शब्दों का जाल बुनकर कविता के रूप बजट को पेश किया है।

बजट की खास बातें…

  • सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य सेक्टर को लेकर कई योजनाएं।
  • पलायन को रोकने के लिए होगी उद्योगों की स्थापना
  • मेक इन इंडिया के अंतर्गत लगेंगे उद्योग
  • नेपा, खुरपिया, पराग, सितारगंज में लगेंगे उद्योग
  • मेरा गांव मेरी सड़क नाम से नई योजना प्रारम्भ
  • सीमांत व पर्वतीय खेती के विकास को बनेगी कार्ययोजना
  • जड़ी-बूटी की खेती को दिया जाएगा प्रोत्साहन
  • 20 गांवों में रोपे जाएंगे जड़ी-बूटियों के पौधे
  • कॉपरेटिव फार्मिंग को दिया जाएगा बढ़ावा
  • माधो सिंह भण्डारी कृषि सहभागिता योजना प्रस्तावित
  • गरीब, गांव, गन्ना, गुड़, गाय गौशाला पर फोकस
  • गहत, गलगल, गेठ और गदुआ-गडेरी को लेकर होगा काम

अगले पेज में पढ़ें अन्य घोषणाएं