देशद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे राजधानी दिल्ली स्थित जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर गुरुवार शाम विश्वविद्यालय परिसर में एक युवक ने कथित तौर पर हमला किया। बताया जाता है कि हमला करने वाला युवक बाहरी था। हमलावर का कहना है कि वह कन्‍हैया को ‘सबक सिखाना’ चाहता था। यह लड़का कन्‍हैया को पीटना चाहता था, लेकिन छात्रों ने पकड़कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

मौका-ए-वारदात पर मौजूद छात्रों और शिक्षकों के मुताबिक, जब विश्वविद्यालय के प्रशासनिक खंड में ‘राष्ट्रवाद’ पर व्याख्यान चल रहा था तो हमलावर ने वहां मौजूद कन्हैया को कुछ बात करने के बहाने अपने पास बुलाया।

एक छात्र ने कहा, ‘कन्हैया उससे बात करने के लिए एक कोने में गया तो उस शख्स ने उसे गालियां देनी शुरू कर दीं और नोंकझोंक के बाद उसे थप्पड़ जड़ दिया। यह देखकर कई छात्र और विश्वविद्यालय के सुरक्षा गार्ड कन्हैया को बचाने के लिए गए।’

विश्वविद्यालय के सुरक्षा गार्डों ने गाजियाबाद निवासी विकास चौधरी नाम के इस हमलावर को प्रशासनिक खंड में हिरासत में रखा और पुलिस को बुलाया। जब पुलिस ने कथित हमलावर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने के लिए औपचारिक शिकायत करने को कहा तो छात्रों ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि उन्होंने विश्वविद्यालय सुरक्षा विभाग को हलफनामा दिया है कि छात्र कोई पुलिस शिकायत नहीं करेंगे और विश्वविद्यालय के अधिकारी इस पर फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं।

विश्वविद्यालय अधिकारियों ने कहा कि उन्हें मीडिया की खबरों से कन्हैया पर हमले की बात पता चली है और पुलिस में शिकायत करने के मुद्दे पर शुक्रवार को फैसला किया जाएगा।