बागेश्वर तक रेल लाइन का सपना हो सकता है साकार ‘अगर’

टनकपुर से बागेश्वर तक रेल लाइन बिछाने के लिए प्रदेश सरकार को फ्री में भूमि उपलब्ध कराने के साथ ही कुल लागत का 50 फीसदी सहयोग करना होगा। अगर ऐसा हो पाया तो बागेश्वर तक रेल लाइन बिछाने का सपना साकार हो सकता है। यह बात पूर्वोत्तर रेलवे गोरखपुर के महाप्रबंधक राजीव मिश्रा ने कही।

जीएम ने कहा कि टनकपुर-बागेश्वर रेल सेवा के लिए दशकों से मांग हो रही है। इस लाइन के लिए बड़े बजट की जरूरत है। पहाड़ में लाइन बिछाने में लागत कई गुना बढ़ जाती है। फिलहाल रेलवे के पास टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन के लिए बजट नहीं है।

महाप्रबंधक ने कहा कि काठगोदाम स्टेशन 2019 तक इलेक्ट्रिक ट्रेन सेवा से जुड़ जाएगा। एक साल के भीतर ही स्टेशन को वाईफाई सेवा से भी लैस कर दिया जाएगा। कुमाऊं के स्टेशनों में भी विस्तार की संभावनाएं हैं। हल्द्वानी स्टेशन के पास ढोलक बस्ती का जिक्र करते हुए महाप्रबंधक ने कहा कि मलिन बस्ती के चलते रेलवे की कई योजनाएं लंबित हैं। बस्ती का मामला कोर्ट में विचाराधीन है। कोर्ट की अगली सुनवाई के बाद अतिक्रमण हटवाने के लिए प्रदेश सरकार की मदद ली जाएगी।

पूर्वोत्तर रेलवे, गोरखपुर के जीएम राजीव मिश्रा के पंतनगर पहुंचने पर रेलवे के अधिकारियों ने उनका जोरदार स्वागत किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कंट्रोल रूम के साथ जुड़े शौचालय, स्टेशन की डबल स्टोरी में कर्मचारियों के स्टाफ रूम की सुविधा व वीआईपी सुख सुविधा दुरुस्त करने, स्टेशन के बाहर हाईटेक शौचालय के निर्माण के निर्देश भी दिए।

उन्होंने कहा कि सिडकुल पंतनगर के लिहाज से पंतनगर रेलवे स्टेशन को ई क्लास से वीआईपी स्टेशन और लालकुआं को रेलवे हब के रूप में विकसित किया जा रहा है।