मनरेगा में भ्रष्टाचार के उनके आरोपों से 1000 प्रतिशत सहमत हूं : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मनरेगा की पहले आलोचना करने और बाद में इसकी तारीफ करने पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी एवं कुछ विपक्षी सदस्यों के हमले पर पलटवार करते हुए प्रधानमंत्री ने कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे को उद्धृत किया और कहा कि वह मनरेगा में भ्रष्टाचार के उनके आरोपों से 1000 प्रतिशत सहमत हैं।

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘2012 में CAG की एक रिपोर्ट में मनरेगा में भ्रष्टाचार का जिक्र किया गया था। हमने उसमें से कुछ सीखने का प्रयास किया है। हमने इसे फूलप्रूफ बनाने का प्रयास किया है और यह सुनिश्चित किया है कि इसका लाभ लक्षित लोगों को मिले।’

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे द्वारा मनरेगा में भ्रष्टाचार के उल्लेख का समर्थन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं उनकी बात से 1000 प्रतिशत सहमत हूं।’ उन्होंने कहा कि CAG की रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन राज्यों में कम गरीबी है और शासन व्यवस्था थोड़ी सुचारू रूप से चली है, वहां मनरेगा का काम अच्छा रहा, लेकिन जहां गरीबी ज्यादा है वहां इसका ठीक ढंग से उपयोग नहीं हुआ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने जनधन, आधार और मोबाइल योजनाओं को जोड़कर इसे दुरुस्त बनाने का काम किया है और उम्मीद है कि इससे बिचौलियों को निकाल सकेंगे। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आप गर्व से मनरेगा की चर्चा करते हो। लेकिन इसे पीछे जाकर देंखे तो 1972, 1980, 1983 में ऐसी योजनाएं थी, इसके बाद 1989 जेआरआई, वाजपेयीजी के समय सम्पूर्ण ग्रामीण रोजगार योजना और फिर 2006 मे मनरेगा नए अवतार में सामने आई।

उन्होंने कहा कि आप सीना तानकर मनरेगा की चर्चा कर सकते हैं, लेकिन जब मैं इसकी विफलताओं की बात करता हूं तब मेरा आशय होता है कि अगर यह सफल होती तो देश में गरीबी नहीं होती, हमारे गरीब लोगों को गढ्ढा नहीं खोदना पड़ता। उन्होंने कहा, ‘संसद इस ईष्या भाव से काम करने के लिए नहीं है कि तेरी शर्ट मेरी शर्ट से सफेद कैसे? सरकार की आलोचला इसलिए नहीं हो रही है कि हमने कुछ गलत किया है बल्कि इसलिए हो रही है कि जो काम इतने वर्षों में नहीं हुआ, वह हम कैसे कर पा रहे हैं।’

पीएम मोदी ने कहा कि वह बुद्धिजीवियों से अपील करते हैं कि अटल बिहारी वाजपेयी के समय शुरू की गई प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना और महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना का तुलनात्मक अध्ययन पेश करें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में जहां परिसंपत्ति का निर्माण हुआ, वहीं मनरेगा में गढ्ढे खोदने और उसे भरने का काम हुआ। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार अब मनरेगा के जरिए भी राष्ट्रीय परिसंत्ति बनाने का प्रयास कर रही है।

खाद्य सुरक्षा अधिनियम का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों को गुजरात की बात सामने आ जाए तो जैसे आनंद आ जाता है। यह कुछ नहीं बल्कि उनका खोखलापन है, क्योंकि उनके पास कुछ कहने के लिए नहीं है।

उन्होंने कहा कि मई 2014 तक इस सरकार के आने से पहले सिर्फ 11 राज्यों ने हड़बडी में इसे (खाद्य सुरक्षा) स्वीकृति दी थी। और आज भी चार कांग्रेस शासित प्रदेश हैं जहां इस अधिनियम को लागू नहीं किया गया है।

गुजरात में इस कानून को लागू किए जाने के बारे में कुछ सदस्यों द्वारा सवाल उठाने पर प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात ने सभी बारीकियों को पूरा करते हुए इसे लागू किया है।