बीजेपी ने बुधवार को कहा कि हाल में हुए एक कार्यक्रम में विदेशी पहलवानों द्वारा भारत और भारतीयों के खिलाफ कथित अपशब्द कहे जाने के दौरान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत और उनके सहयोगियों के चुप बैठे रहने के लिए उनके खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए।

उत्तराखंड प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने अस्थायी राजधानी देहरादून में एक संवाददाता सम्मेलन में अपने देश और देशवासियों के खिलाफ विदेशी पहलवानों द्वारा कथित आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करने के बावजूद मुख्यमंत्री द्वारा कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं किए जाने पर घोर आपत्ति जताते हुए कहा, ‘यह भी एक प्रकार का राष्ट्रद्रोह है जिसके लिए रावत के खिलाफ तुरंत मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए।’

चौहान ने कहा, ‘विदेशी पहलवानों ने मुख्यमंत्री, उनके सहयोगियों और सलाहकारों की मौजूदगी में भारत और भारतीयों के खिलाफ अपशब्द बोले और वे सभी पूरे कार्यक्रम में चुपचाप बैठे रहे। यह राष्ट्रद्रोह का मामला है और उनके खिलाफ तत्काल मुकदमा दर्ज होना चाहिए।’

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि कनाडाई पहलवान ब्राडी स्टील और विदेश से उनके साथ आए कुछ अन्य पहलवानों ने मुख्यमंत्री, उनके मंत्रिमंडलीय सहयोगियों तथा अधिकारियों के सामने भारतीयों को तुच्छ बताते हुए उनके खिलाफ नस्ली टिप्पणियां कीं, लेकिन इनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई।

ये कथित टिप्पणियां हाल में उत्तराखंड में हुए ‘द खली रिटर्न्स शो’ के दौरान की गईं, जिसमें भारत के पूर्व डब्ल्यूडब्ल्यूई पहलवान खली का ब्राडी स्टील व उनकी टीम के अन्य पहलवानों से मुकाबला हुआ था। यह कार्यक्रम मुख्यमंत्री हरीश रावत के युवाओं तक पहुंच बनाने की उनकी पहल ‘सीएमफारयूथ’ के तहत आयोजित किया गया था।

चौहान ने एक सार्वजनिक कार्यक्रम में भारत विरोधी भावनाओं को भड़काने के लिए भी मुख्यमंत्री से माफी मांगने को कहा। बीजेपी नेता ने कहा कि जब सरकार उधमसिंह नगर जिले के एक बीजेपी नेता के खिलाफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ बयानबाजी के लिए राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज कर सकती है, तो मुख्यमंत्री और उनके सहयोगियों के खिलाफ इस मामले में मुकदमा क्यों नहीं दर्ज किया जा सकता?