कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर हैदराबाद में राजद्रोह का मुकदमा दर्ज होने के बाद उत्तराखंड के मुख्‍यमंत्री हरीश रावत ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी के ऊपर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज होना दुर्भाग्‍यपूर्ण है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह कार्रवाई बदले की भावना से की गई है और इस मामले में अब प्रधानमंत्री को हस्तक्षेप करना चाहिए।

सीएम रावत ने कहा कि बीजेपी देश को बांटने का काम कर रही है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि बीजेपी नहीं रुकी तो उसे इसके दूरगामी परिणाम देखने को मिलेंगे। गौरतलब है कि जेएनयू विवाद में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी सहित नौ लोगों पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है।

जनार्दन गौड़ नाम के एक वकील की शिकायत पर एक स्थानीय अदालत की ओर से दिए गए आदेश के आधार पर राहुल, केजरीवाल, येचुरी, कांग्रेस नेता आनंद शर्मा और अजय माकन, भाकपा के राष्ट्रीय सचिव डी. राजा, जेडीयू महासचिव के.सी. त्यागी, जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार और जेएनयू के छात्र उमर खालिद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

हैदाराबाद में एलबी नगर की साइबराबाद पुलिस उपायुक्त तफसीर इकबाल ने बताया कि यह दिल्ली के जेएनयू से जुड़ा और अदालत की ओर से भेजा गया मामला है। अदालत के निर्देश पर पुलिस ने इन सब पर आईपीसी की धारा 124 और 124 (ए) के तहत मामला दर्ज किया है।

बता दें कि इसके पहले भी इलाहाबाद के सीजेएम कोर्ट में भी राहुल और केजरीवाल के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज हुआ था। मामले में अर्जी दाखिल करने वाले को एक मार्च तक सबूत पेश करने को कहा गया था। लखनऊ सीजेएम कोर्ट में राहुल के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा करने की मांग से जुड़ी अर्जी दाखिल हुई थी।