मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने राज्य सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए खुद भी सोमवार से अनशन शुरू करने की घोषणा की है।

कुंभ क्षेत्र के विस्तार की मांग को लेकर किए जा रहे आंदोलन के पहले दो दिन वे जल ग्रहण करेंगे। तीसरे दिन से जल भी त्याग देंगे। उधर, ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद का अनशन 15वें दिन भी जारी रहा।

गौरतलब है कि मातृ सदन ने रायवाला से भोगपुर तक कुंभ क्षेत्र का विस्तार करने की मांग राज्य सरकार से उठाई है। इस मांग को पूरा न किए जाने को लेकर ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद पंद्रह फरवरी से अनशन पर है। अभी तक इस मांग को पूरा न किए जाने के कारण आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने भी सोमवार से अनशन शुरू करने की घोषणा की है।

पत्रकारों से वार्ता करते हुए स्वामी शिवानंद सरस्वती ने कहा कि साल 2010 में प्रशासनिक प्रत्यावेदन में कुंभ क्षेत्र भोगपुर तक बढ़ाने की सिफारिश की गई है। सरकार ने कुंभ क्षेत्र को बढ़ाया तो नहीं बल्कि इस संबंध में जो शासनादेश जारी किया गया था वह भी गायब हो गया है।

उन्होंने कहा कि खुद सीएम और उनके प्रतिनिधि अलग अलग समय पर मातृ सदन आकर इस मांग को पूरा करने का भरोसा दिला चुके है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने आशंका जताई कि सरकार के संरक्षण में मातृ सदन पर दोबारा भी हमला किया जा सकता है।