हर किसी की चाहत होती है कि ऑफिस की दिनभर की थकान के बाद जब वह घर जाए, तो उसे सुकून और प्यार का अहसास हो। अगर घर का वातावरण सकारात्मक नहीं होता है, तो चाहे घर कितना भी आलिशान क्यों न हो, उसमें रहने वाले को न तो सुकून का अहसास होता है न ही आराम मिल पाता है। क्या आपके साथ भी ऐसा होता है? घर में जाते ही आपको अजीब सी बेचैनी का अहसास होने लगता है? अगर हां, तो इसका अर्थ यह है कि आपके घर में वास्तु असंतुलन है।

वास्तुदोष देता है ये परेशानियां

  • घर में जाते ही बेचैनी सी महसूस होती है
  • बिना बात के गुस्सा आता है
  • पति-पत्नी में तकरार होती है
  • हर समय ऐसा लगता है कि तबीयत खराब है

घर का वातावरण हो सकारात्मक
मानसिक शांति और सुकून के लिए यह बेहद जरूरी है कि आपके घर का वातावरण पॉजिटिव हो। घर में सकारात्मक ऊर्जा के संचार के लिए और परिवार के सदस्यों के बीच आपसी प्रेम व सद्भाव के लिए अपने घर की सजावट में वास्तु और फेंग्शुई के सिद्धांतों का ध्यान रखते हुए उन वस्तुओं का प्रयोग करें, जो सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाली हों। यह सुनिश्चित करें कि आपके घर में ताजी हवा और प्राकृतिक धूप आने का मार्ग अवरुद्ध न हो। इसके लिए दिन के किसी भी समय अपने घर के दरवाजे और खिड़कियों को खुला रखें।

घर में लगाएं हरे पौधे

  • घर के अंदर प्रवेश करते ही सुकून का अहसास हो और आप दिनभर की सारी थकान व तनाव को भूल जाएं, इसके लिए यह जरूरी है कि आपके घर का महौल पॉजिटिव हो। घर में पर्याप्त ऑक्सीजन और शुद्ध वायु के लिए घर के अंदर हरे-भरे पौधे लगाएं।
  • अगर आपके घर में बाल्कनी है, तो उसे कवर करने की बजाए खुला रखें और वहां पर अपने मनपसंद फूलों वाले पौधे लगाएं। इससे घर का वातावरण खुशनुमा होगा।
  • घर के प्रवेशद्वार पर विंड चाइम्स लगाएं। उसकी सुमधुर धुन से घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • मानसिक सुकून के लिए यह बेहद जरूरी है कि पति-पत्नी के संबंधों में प्रेम और एक-दूसरे का सम्मान करने की भावना हो। ऐसा तभी हो सकता है जब आपके बेडरूम वास्तु मुताबिक हो। दंपत्ति के बेडरूम की दिशा और उसमें रखी वस्तुओं का उनके वैवाहिक जीवन पर गहरा असर पड़ता है।
  • नवदंपत्ति का बेडरूम पश्चिम दिशा में बनाना चाहिए। इस दिशा में बना बेडरूम उनके बीच प्यार और रोमांस को हवा देगा उनका जीवन सुखमय और सुकून भरा होगा।
  • मानसिक शांति और सुकून के लिए यह बेहद जरूरी है कि आपका कमरा साफ-सुथरा हो।
  • बेडरूम के अंदर ऑफिस से जुड़ा सामान मसलन फाइलें, कम्यूटर आदि न रखें।
  • बेडरूम के अंदर भूलकर भी देवी-देवताओं और परिजनों की तस्वीरें न लगाएं स्वस्थ और प्रेमपूर्ण संबंधों के लिए अपने कमरे की दीवारों पर प्रेमी युगल या प्रेम प्रदर्शित करती तस्वीरें लगाएं।

रंगों का सही प्रयोग
मानसिक सुकून प्रदान करने में रंग महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं अपने कमरे की दीवारों पर ऐसे रंगों से पेंट कराएं, जिन्हें देखकर आपको ताजगी का अहसास हो। रंगों के उचित संयोजन के माध्यम से आप बेवजह के तनाव और बेचैनी से मुक्ति पा सकते हैं। इनके सही इस्तेमाल से आपके संबंधों में भी ऊर्जा आती है। जीवन साथी के साथ आपका जुड़ाव बढ़ता है और छोटी-छोटी बातों पर होने वाली तकरार खत्म होती है।

हरे और पीले रंग के सभी शेड्स पोषणात्मक रंगों के तहत आते हैं, जो सुकून प्रदान करने वाले और संबंधों को जीवंत बनाने वाले होते हैं। कमरे की दीवारों के साथ-साथ उसके कर्टेन्स और चादरों के रंगों का इस्तेमाल भी सोच-समझकर करें। पीला गुलाबी, हल्के हरे और नीले रंग का संयोजन कमरे में सोने वाले को सुकून प्रदान करने वाला होता है। परंतु इनका चयन दिशानुसार ही करें।

इन बातों का रखें ध्यान

  • घर के अंदर विरान घर, लड़ाई-झगड़े और पतलझड़ आदि का चित्र ना लगाएं। इससे घर के अंदर नकरात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • घर में टूटा-फूटा सामान या जिनका इस्तेमाल न होता हो उसे हटा दें। छत पर लोहे की छड़ें, पुराने जूते-चप्पल या अन्य सामान रखा हो तो उसे हटा दें।
  • मानसिक सुकून के लिए जल तत्व से संबंधित कोई भी तस्वीर बेडरूम में न लगाएं। इसके अलावा एक या तीन व्यक्ति या औरत वाली तस्वीर बेडरूम के अंदर ना लगाएं। ऐसी तस्वीर बेडरूम के अंदर होने से पति-पत्नी के बीच छोटी-छोटी बात पर लड़ाई होने लगती है।

यह लेख मशहूर ज्योतिष, वास्तु और फेंग्शुई विशेषज्ञ नरेश सिंगल से बातचीत के आधार पर लिखा गया है। वास्तु से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए नरेश सिंगल से संपर्क करें…

+91-9810290286
9810290286@vaastunaresh.com, mail@vaastunaresh.com