हल्द्वानी के गौलापार में बुधवार को होने वाले रेसलिंग मुकाबले से पहले ‘द ग्रेट खली’ ने अपने डेथ वारंट पर सार्वजनिक रूप से दस्तखत कर दिए हैं। खली ने रेसलर ब्रॉडी स्टील के चैलेंज को कबूल करते हुए डेथ वारंट पर साइन किए।

हालांकि, रेसलर स्टील अभी इंडिया नहीं पहुंचे हैं। उन्होंने खली के ओपन चैलेंज को कबूल करने से पहले रेसलर ब्रायन के माध्यम से मैसेज पहुंचाया कि अगर खली उनसे मुकाबला करना चाहते हैं तो वे सादे पन्ने को डेथ वारंट मानते हुए साइन करें।

अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में बुधवार शाम को होने वाले रेसलिंग मेगा शो में भाग लेने के लिए अभी तक लगभग एक दर्जन विदेशी रेसलर हल्द्वानी पहुंचे गए हैं, जबकि इस मुकाबले में 14 विदेशी सहित 26 रेसलरों की शानदार भिड़ंत होगी।

काठगोदाम सर्किट हाउस में मीडिया से मुखातिब सभी विदेशी रेसलर रिंग में उतरने के लिए काफी उत्साहित दिखे। उन्होंने अपने-अपने अंदाज में एक-दूसरे को चैलेंज दिया। ‘द ग्रेट खली’ ने ब्रॉडी स्टील के चैलेंज को स्वीकर करते हुए कहा कि जैसे उन्होंने विदेशी रिंगों में अन्य रेसलरों को कूटा है, उसी तरह यहां भी हर रेसलर को धूल चटाएंगे।

खली ने कहा है कि यह मैच तो मेरी मातृ भूमि पर हो रहा है, तो मैं यहां कैसे खामोश रह सकता हूं। वहीं महिला रेसलर क्रिस्टीना ने भारत की जमकर तारीफ करते हुए कहा है कि वे रिंग में जाने को लेकर काफी उत्सुक हैं। लिहाजा वे जिंदर महल से मुकाबला करना पसंद करेंगी। वहीं ब्रायन ने कहा है कि वे खली के अच्छे दोस्त हैं, लिहाजा उन्होंने सिर्फ ब्रॉडी स्टील का मैसेज खली तक पहुंचाया है।

गौरतलब है कि इस प्रो-कुश्ती स्पर्धा का आयोजन उत्तराखंड सरकार कर रही है। इस स्पर्धा का नाम डब्ल्यूडब्ल्यूई में भारत की तरफ से हिस्सा ले चुके ‘ग्रेट खली’ के नाम पर ‘द ग्रेट खली मेनिया’ रखा गया है। कुश्ती के मैच 24 फरवरी को हलद्वानी और 28 फरवरी को अस्थायी राजधानी देहरादून में खेले जाएंगे। इसके लिए पेशेवर कुश्ती खिलाड़ी खली ने अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को उन्हें उत्तराखंड में हराने की चुनौती दी थी।

हल्द्वानी और देहरादून में बनाए गए दो स्टेडियमों में 15,000 से ज्यादा दर्शक इस फाइट का लुत्फ उठा सकते हैं। स्पर्धा के मैचों का प्रसारण राज्य के सभी शहरों में लगाई जाने वाली एलईडी स्क्रीन पर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में प्रो-कुश्ती के काफी प्रशंसक हैं और खली इन सभी के प्रेरणास्त्रोत हैं, इसलिए हमने इस स्पर्धा को आयोजित करने का फैसला किया।