नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने शनिवार को कहा कि भारत और नेपाल के बीच स्वाभाविक और सांस्कृतिक संबंध हैं। भारत के छह दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को दिल्ली पहुंचे ओली ने शनिवार को राष्ट्रपति भवन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात के बाद यह बात कही।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने राष्ट्रपति भवन में दोनों नेताओं की मुलाकात की तस्वीर भी ट्वीट पर साझा की। उन्होंने लिखा, ‘नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से कहा कि भारत और नेपाल के बीच स्वाभाविक और सांस्कृतिक संबंध हैं।’

ओली शुक्रवार को छह दिवसीय भारत दौरे पर दिल्ली पहुंचे। यह साल 2011 के बाद किसी नेपाली प्रधानमंत्री की पहली द्विपक्षीय भारत यात्रा है। सुषमा ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नेपाली प्रधानमंत्री की होने वाली प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता से पहले उनसे मुलाकात की।

इससे पहले शनिवार को ओली का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक रूप से स्वागत किया गया। उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया।

21 मधेसी हिरासत में
प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली की भारत यात्रा पर विरोध जताने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रेसकोर्स रोड स्थित आवास जाने की कोशिश कर रहे 21 मधेसियों को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पुलिस के अनुसार, हिरासत में लिए गए सभी मधेसी हैं।

इन लोगों को शनिवार सुबह तब हिरासत में लिया गया जब वे प्रधानमंत्री आवास जा रहे थे। प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने पहले दौरे में ओली शुक्रवार को छह दिन की यात्रा पर नई दिल्ली पहुंचे। अपने इस प्रवास में वह भारतीय नेतृत्व के साथ गहन बातचीत करेंगे जो खास तौर पर हिमालयी देश के नए संविधान से जुड़े मुद्दों के कारण प्रभावित हो रहे संबंधों में सुधार पर केंद्रित होगी।

समझा जाता है कि भारत-नेपाल से संविधान को अधिक समावेशी बनाने का ‘अधूरा काम’ पूरा करने के लिए कहेगा, ताकि मधेसी समुदाय की चिंताओं का समाधान हो सके। इस समुदाय के भारतीयों के साथ करीबी पारिवारिक एवं सांस्कृतिक रिश्ते हैं।