मोहन सिंह बर्निया की एसडीएम सदर देहरादून के पद से छुट्टी करके उनका ट्रांसफर कर दिया गया है। मोहन सिंह बर्निया पर हुई इस कार्रवाई को मॉल में कथित छेड़छाड़ मामले से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि प्रशासनिक अधिकारी इसे रूटीन ट्रांसफर बता रहे हैं।

अस्थायी राजधानी देहरादून स्थित सचिवालय के पास ही स्थित एक मॉल में शुक्रवार रात एक महिला अधिकारी से छेड़छाड़ का विरोध करने पर उसके साथी की पिटाई की गई थी। इस मामले में एसडीएम सदर मोहन सिंह बर्निया के अलावा एक मंत्री के करीबी पर आरोप लगे थे।

पीड़ित लड़की के साथी के अलावा एसडीएम की तरफ से शिकायत दी गई थी, लेकिन पीड़ित की तरफ से किसी के सामने न आने पर मामला दर्ज नहीं हुआ। मामले में राजनीतिक और सामाजिक संगठनों ने विरोध जताते हुए बर्निया पर कार्रवाई की मांग की थी। यही वजह है कि मंगलवार को बर्निया का एसडीएम सदर से जीएमवीएन महाप्रबंधक के पद पर ट्रांसफर आदेश हुए तो विभाग में ही कई तरह के सवाल उठने लग गए।

जिलाधिकारी रविनाथ रमन के निर्देश पर एडीएम (वित्त एवं राजस्व) झरना कामठान ने मामले की जांच शुरू कर दी है। एसएसपी की ओर से डीएम से अनुरोध किया गया था। एसएसपी का कहना था कि मामले में हालांकि पीड़ित पक्ष सामने नहीं आ रहा है, फिर भी प्रशासन चाहे तो किसी वरिष्ठ अधिकारी से आरोपों की जांच कराई जा सकती है।

इस पर डीएम ने एडीएम को जांच के आदेश दिए थे। एडीएम ने डालनवाला पुलिस से घटना के वक्त आरोप प्रत्यारोप लगाने वाले दोनों पक्षों के नाम पते की जानकारी मांगी है। डीएम ने बताया कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही इस बारे में कुछ कहना उचित होगा।