इलाहाबाद।… राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ टिप्पणियों के लिए करीब चार महीने पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली पर देशद्रोह का आरोप लगाने वाले एक न्यायिक अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। यही नहीं आगे की कार्रवाई के लिए जांच के आदेश भी दिए गए हैं।

हाईकोर्ट की रजिस्ट्री के अनुसार, इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ के निर्देश के बाद उत्तर प्रदेश के महोबा के कुलपहार के न्यायिक मजिस्ट्रेट एवं दीवानी न्यायाधीश अंकित गोयल को निलंबित किया गया। इसमें कहा गया कि गोयल को पहली नजर में ‘न्यायिक कार्य में अविवेकपूर्ण तरीका अपनाने’ का दोषी पाया गया।

गोयल ने मीडिया में आई खबरों पर संज्ञान लेते हुए पिछले साल 19 अक्टूबर को जेटली पर देशद्रोह का आरोप लगाया था और 19 नवंबर को उनकी निजी उपस्थिति के लिए सम्मन जारी किया था। जेटली ने एनजेएसी पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आलोचना की थी।