नई दिल्ली।… जेएनयू विवाद बढ़ने के मद्देनजर केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने शनिवार को कहा कि देश मूल्यों के संकट के दौर से गुजर रहा है, क्योंकि भारतीयता को चुनौती देने वाले लोग बुद्धिजीवी समझे जा रहे हैं। और इसके पक्ष में बात करने वाले बेवकूफ बताए जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री ने कहा, ‘हम मूल्यों के संकट के दौर से गुजर रहे हैं। यह ऐसा वक्त है कि भारतीयता की बात करने वाले लोग बेवकूफ करार दिए जा रहे हैं। जबकि भारतीयता को चुनौती देने वाले लोगों को बुद्धिजीवी करार दिया जा रहा।’

उन्होंने सवाल किया कि क्या यह स्थिति विरोधाभासी या पथभ्रष्ट होने की है? उन्होंने कहा कि विनम्रता कमजोरी मानी जा रही है और उपद्रवी बहादुर माने जा रहे हैं। जेएनयू परिसर में एक कार्यक्रम आयोजित होने के सिलसिले में छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी को लेकर विवाद के बीच जितेंद्र सिंह की टिप्पणी आई है।

उन्होंने कहा कि सरकारें आती जाती रहेंगी, लेकिन क्या हम भारत माता के अस्तित्व पर खुद सवालिया निशान लगा सकते हैं? उन्होंने जम्मू कश्मीर में दशकों से चले आ रहे उथल-पुथल पर कहा कि कश्मीरी पंडितों के बारे में फैलाए जा रहे दुष्प्रचार का प्रतिरोध करने की जरूरत है, जिसके तहत कहा जा रहा है कि वे घाटी में लौटना नहीं चाहते।