अक्सर हम सबकी अपने नेताओं से शिकायत होती है कि या तो वे काम नहीं करते या उन्हें जानकारी ही नहीं होती है। अगले साल एक बार फिर हमें अपने प्रतिनिधि को चुनने का मौका मिलेगा। इस बार गांठ बांध लें कि सही और आपका हित चाहने वाले उम्मीदवार को ही विधानसभा तक पहुंचाएं।

विधानसभा चुनाव 2017 में एक नया चेहरा उदय मेहरा चावला के रूप में नैनीताल जिले के भीमताल में दिखाई देगा। उदय मेहरा भीमताल के पास ही हेड़ाखान बाबा के भक्त हैं और दिल्ली में एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के तौर पर जाने जाते हैं। वे पिछले 50 सालों से उत्तराखंड के निवासी हैं। पूर्व सैन्यकर्मी के बेटे उदय मेहरा के भाई भी सेना में कर्नल के पद पर तैनात हैं।

राज्य के विकास को लेकर उदय मेहरा की सोच बिल्कुल स्पष्ट है। उनका कहना है कि वे विकास के नाम पर विनाश का समर्थन कभी नहीं करेंगे। वे पर्यावरण के अनुकूल विकास को महत्व देते हैं। स्किल आधारित शिक्षा को वे उत्तराखंड के लिए सर्वोत्तम मानते हैं और उनका कहना है कि अगर वे जीतते हैं तो सरकारी स्कूलों का भी प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर विकास करेंगे।

उदय पहाड़ों में ज्यादा से ज्यादा रोजगार पैदा करना चाहते हैं। उनका कहना है कि वे यहां के किसानों के लिए भी पार्ट टाइम रोजगार जैसे कॉन्सेप्ट पर काम करना चाहते हैं, जिससे उनकी आमदनी बढ़ेगी। यही नहीं वे पूर्व सैन्यकर्मियों को पुलिस की मदद के लिए तैयार करने की बात भी करते हैं।