एनजीटी से गुहार लगाकर हरिद्वार की नदियों में खनन-चुगान फिर शुरू करवाएंगे मुख्यमंत्री

हरिद्वार की नदियों में खनन और चुगान शुरू किए जाने के मामले को उत्तराखंड सरकार एनजीटी व केंद्र सरकार के समक्ष रखेगी। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने यह आश्वासन इस समस्या को लेकर विश्व हिदू परिषद (वीएचपी) नेता साध्वी प्राची के नेतृत्व में सोमवार शाम उनसे मिलने आए खनन संघर्ष समिति के सदस्यों को दिया।

अस्थायी राजधानी देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के मुताबिक, समिति ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि खनन चुगान न होने से करीब दो लाख लोगों की आजीविका प्रभावित हो रही है और साथ ही इससे हरिद्वार नगर को भी खतरा बना हुआ है।

उन्होंने बताया कि नदियों से खनन-चुगान के कार्य से नदी की धारा की दिशा को नियंत्रित रखने के साथ-साथ सफाई की भी व्यवस्था सुचारू बनी रहती है और साथ ही नगर की भी सुरक्षा बनी रहती है।