चमोली जिले में दो दिन पहले हुई बारिश से न सिर्फ मौसम सुहावना हो गया है, बल्कि फसलों के लिए भी ये बारिश किसी वरदान की तरह साबित हुई है। कई महीनों से बारिश न होने के चलते सूखने की कगार पर पहुंच चुकी गेहूं की फसल के लिए ये बारिश संजीवनी की तरह साबित हुई है। वहीं ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी के चलते सेब और अन्य नकदी फसलों के लिए भी ये वरदान साबित हुई हैं।

मौसम विभाग ने जिस तरह से तीन दिनों तक पहाड़ों में खराब मौसम की चेतावनी दी थी, ठीक उसके विपरीत शनिवार को यहां मौसम का मिजाज चटख धूप के साथ देखने को मिला।

मौसम विभाग की तरफ से तीन दिनों तक चमोली जिले में भी खराब मौसम की चेतावनी दी गई थी, जिसके तहत पहले दिन खराब मौसम के कारण ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी के साथ निचले इलाकों में बारिश हुई। लेकिन शनिवार और रविवार को चटक धूप खिलने से मौसम खुशनुमा हो गया।

शुक्रवार को हुई बारिश और बर्फबारी के चलते जहां पहाड़ों में एक बार फिर ठंड बढ़ गई है। वहीं, सूखे की मार झेल रही फसलों के लिए ये संजीवनी साबित हुई है।