ऑस्‍ट्रेलियाई पिचों पर रोहित शर्मा, विराट कोहली, शिखर धवन जैसे टीम इंडिया के प्रतिष्ठित खिलाड़ियों के बल्‍लों ने 5 मैचों की वनडे सीरीज में खूब रन उगले, लेकिन लगातार चार मैचों में हार के बाद जीत के नायक बने उत्तराखंड के मनीष पांडे।

सिडनी में खेले गए सीरीज के अंतिम वनडे में 331 रनों के लक्ष्‍य का पीछा कर रही टीम इंडिया शिखर धवन और विराट कोहली जैसे बल्‍लेबाजों का विकेट गंवा चुकी थी। तभी कप्‍तान धोनी ने युवा मनीष पांडे को ऊपर बैटिंग के लिए भेजकर बड़ी जिम्‍मेदारी सौंप दी।

शुरुआत में तो ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाजों ने मनीष को कई गेंदों पर छकाया, लेकिन उत्तराखंड के इस बल्‍लेबाज ने बहादुर योद्धा की तरह क्रीज पर पैर जमा लिए। फिर क्‍या था, मैदान के चारों ओर मनचाहे स्‍ट्रोक खेले और टीम को जीत दिलाकर ही दम लिया। मनीष ने 81 गेंदों में नाबाद 104 रन की पारी खेली।

मनीष की इस मैच जिताऊ पारी के बाद उनके ताऊ बोले, कमाल करते रहो पांडे जी, हमारा आशीर्वाद तेरे साथ है।
ताऊ बोले – आखिर भतीजा किसका है?

मनीष पांडे की इस जबरदस्त पारी को देखकर उनके घर वाले भी काफी खुश हैं। हल्द्वानी-काठगोदाम में रहने वाले मनीष के ताऊ खीमानंद पांडेय ने तो मनीष की इस पारी की खुशी में मिठाइयां बांटकर जश्‍न मनाया।

खीमानंद ने कहा, ‘बेटे (मनीष पांडे) तू ऐसे ही खेलता रह, पूरे देश का आशीर्वाद तुम्‍हारे साथ है।’ उन्‍होंने कहा कि मनीष ने शतकीय पारी खेलकर पूरे देश का मान बढ़ाया है।

क्रिकेटर मनीष पांडे मूल रूप से उत्तराखंड में बागेश्‍वर जिले के खीणी गांव के रहने वाले हैं, लेकिन उनका परिवार नैनीताल जि‍ले के हल्‍द्वानी में लंबे समय से रह रहा है। मनीष की इस उपलब्‍धि से बागेश्‍वर और हल्‍दवानी सहित पूरे उत्तराखंड में उनके चाहने वाले बेहद खुश हैं।