‘पहाड़ों की रानी’ मसूरी में यहां है आत्माओं का वास, भूलकर भी इस रास्ते न जाएं

मसूरी को पहाड़ों की रानी कहा जाता है और देश ही नहीं दुनियाभर से पर्यटक यहां की खूबसूरती को अपने जेहन में समेटने के लिए पहुंचते हैं। देश-विदेश के सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करने वाले मसूरी में अनूठी प्रकृति के बीच मौजूद लांबी देहर माइंस में आत्माओं का ठिकाना है।

लांबी देहर माइंस मसूरी के बाहरी इलाके में मौजूद है। कहा जाता है 1990 से पहले उस वक़्त यहां पर करीब 50,000 मजदूर काम करते थे। मसूरी के बाहरी इलाके में स्थित इन माइंस के साथ 1990 के दशक में एक अप्रिय घटना घटी थी। एक हादसे में इसमें काम कर रहे 50 हजार से ज्‍यादा मजदूरों की मौत हो गई। तब से यह माइंस बदहाल है और काफी भयावह है।

स्टोन माइंस की बीमारियों से बचने के लिए लाइमस्टोन माइंस के लिए कई सुरक्षा नियम बने हुए थे पर लांबी देहर माइंस में इस तरह के किसी भी नियम का पालन नहीं होता था, नतीज़न वंहा पर बड़ी संख्या में मजदूर बिमारी से मरने लगे।

यहां माइंस में काम पर लगे ट्रकों के पहाड़ी से गिरने की भी कई घटनाएं हुई हैं। फलस्वरूप सरकार ने सुरक्षा नियमों की अनदेखी के कारण इन माइंस को हमेशा के लिए बंद करवा दिया।

इसके बाद से यह जगह बिल्कुल वीरान पड़ी है। स्थनीय लोगों के अनुसार खाली पड़ी यह माइंस और इसके आसपास बने घर अब आत्माओं का ठिकाना है। यहां गए लोगों ने बताया कि इस वीरान जगह रात में लोगों की आवाज़ें सुनाई देती हैं।

इस जगह के बारे में यह भी कहा जाता है कि यहां चलते हुए वाहन अचानक सड़क से उत्तर जाते हैं, जिससे कई बार गंभीर हादसे भी हो जाते हैं। लोग बताते हैं कि इस वीरान जगह पर एक हेलीकॉप्टर रहस्यमयी तरीके से क्रेश हो चुका है।