चम्पावत मुख्यालय में दो महीने पहले शुरू हुई इंदिरा अम्मा भोजनालय कैंटीन का भविष्य अब अधर में नजर आ रहा है। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बड़ी ही धूम-धाम से इंदिरा अम्मा भोजनालयों की शुरुआत की थी, लेकिन अब जहां-तहां से शिकायतें मिल रही हैं।

सरकार द्वारा कैंटीन संचालक को दो महीने से अभी तक थाली पर मिलने वाली सब्सिडी नहीं मिली है। वहीं, कैंटीन में काम कर रहे कर्मचारियों को भी वेतन न मिलने के चलते अब दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कैंटीन के संचालक का कहना है कि मुख्यमंत्री की इस महत्वाकांक्षी योजना का उद्देश्य राज्य की जनता को सस्ता भोजन उपलब्ध करना था, लेकिन घर से पैसा लगाकर इस कैंटीन को चलाया जा रहा है, जिससे परेशानियां और बढ़ गई हैं।

गौरतलब है कि चम्पावत जिले में 19 नवम्बर 2015 को मुख्य बाजार में मुख्यमंत्री हरीश रावत की महत्वाकांक्षी इंदिरा अम्मा भोजन योजना का शुभारम्भ देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के जन्मदिन के मौके पर मंत्री हरीश दुर्गापाल ने चम्पावत के सहकारी समिति के भवन में किया।