राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य रेखा शर्मा का कहना है कि उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून स्थित नारी निकेतन के अंदर अब भी कई राज दफन हैं। उन्होंने कहा, इस मामले में भले ही छोटे लोग अंदर हो गए हैं, लेकिन कई बड़े लोग हैं, जिन्हें बड़ी ही चालाकी से बचाया जा रहा है।

रेखा शर्मा और उनके साथ आई कमीशन की लॉ ऑफिसर सुधा चौधरी ने बताया कि उन्होंने यहां से काफी साक्ष्य जुटा लिए हैं। कई लोगों के नाम सामने आए हैं। उन लोगों को दस्तावेजों के साथ राष्ट्रीय महिला आयोग बुलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जल्द ही सबके सामने एक नया खुलासा होगा।

मंगलवार को बीजापुर गेस्ट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में रेखा शर्मा ने कहा कि सोमवार को वह साढ़े छह घंटे तक नारी निकेतन में रहीं। इस बीच न एक कप चाय पी और न ही लंच किया। उन्होंने कहा कि हमें नहीं मालूम था कि भीतर इतना समय लग जाएगा, लेकिन जब संवासिनियों से बात की तो कई बातें ऐसी सामने आईं, जिससे भूख-प्यास खत्म हो गई।

उन्होंने बताया कि मामला बेहद गंभीर है। इसमें सफेदपोश भी संलिप्त हो सकते हैं, जिन्हें गिरफ्तार किया गया है, उनका कसूर कम है। लेकिन जो ऊंची पहुंच के कारण बाहर घूम रहे हैं, उन पर हाथ डालने का प्रयास कोई नहीं कर रहा है।

उन्होंने कहा कि कम उम्र की संवासिनियां ही मानसिक रूप से विक्षिप्त संवासिनियों की देखभाल कर रही हैं। नारी निकेतन बदबू से भरा पड़ा है। मीडिया में लगातार मामला सामने आने के बाद भी नारी निकेतन की स्थिति बेहद खराब है।

रेखा शर्मा ने कहा, ‘मैं साढ़े छह घंटे में नारी निकेतन की हकीकत जान गई तो फिर यहां के अधिकारी अब तक इससे अनभिज्ञ क्यों हैं? इसका मतलब वे खुद मामले में कार्रवाई नहीं करना चाहते।